Oxygen

Oxygen:-  ऑक्सीजन को हम देख नही सकतें , लेकिन हम उसके कार्यों को को देख सकतें हैं। उदाहरण के तौर पर हम देखते हैं कि जब हवा अधिक तेजी से बह रही होती तो पौधे तेजी सें हिलनें लगतें हैं। ऑक्सीजन के साथ धुल कण भी श्वसन प्रकिया में ग्रहण कर लेतें हैं। जिससें हमारे शरीर में अनेक रोगों उत्पन्न होतें हैं।

 Oxygen कि खोज कब और किसनें किया था ?

ऑक्सीजन कि खोज 1744 में इंगलैड के प्रसिद्ध वैज्ञानिक जोसेफ प्रीस्ले ने मरक्युरिक ऑक्साइड को जलाकर डिफ्लोजिस्टिकेटेड ऐयर की खोज की थी। यही गैस आगे चलकर लोगों के जीवन दान ऑक्सीजन कहलाया ।

 Oxygen नाम कहाॅ से आया ?

यह शब्द ग्रीक ऑक्सीजन ,जीन से आया है , जिसका अर्थ एसिड बनाना हैं।

Also read this:- Film Zwigato का ट्रेलर हुआ लॉन्च इस दिन देखने को मिलेगी || 7

 मनुष्य कोन – सी ऑक्सीजन ग्रहण करता हैं।

ऑक्सीजन वहन श्वसन रंजक (हिमोग्लोबिन ),जो लाल रक्त कोशिकाओं मे होता है, फेफरे मेझ जैसे पँहुचती है ऑक्सीजन लेने लगता हैं।

Oxygen किसे कहतें हैं।

ऑक्सीजन एक रासायनिक तत्व हैं,एक पदार्थ जिसमें केवल एक प्रकार का परमाणु होता हैं। इसका रासायनिक प्रतीत O के रूप में देखा जा सकता हैं। इसकी परमाणु संख्या 8 होता हैं।इसका अर्थ है, एक ऑक्सीजन के नाभिक में 8 प्रोटाॅन होतें हें। ऑक्सीजन कमरे के ताप मान पर एक गैस हैं और इसका कोई रंध, गंध या स्वाद नही होता हैं। ऑक्सीजन प्राकृतिक रूप से एक अणु के रुप में पाया जाता हैं।

Also read this:- International Women’s day कब और क्यों मनाते हैं ? amazing 7 Oxygen का दुसरा नाम क्या हैं?

ऑक्सीजन या प्राणवायु जारक रंधहीन, गंधहीन और स्वादहीन गैस हैं।

 Oxygen कहाँ से उत्पन्न होता हैं ?

वैज्ञानिक के शोध के मतानुसार पृथ्वी पर आधा से ज्यादा लगभग ऑक्सीजन समुद्र से प्राप्त होता हैं।

 Oxygen का कार्य क्या हैं? (Use of Oxygen)

जीवित प्राणियों के लिए आँक्सीजन अति आवश्यक हैं। हम खाना के बिना तो एक दिन भी रह सकते हैं, लेकिन ऑक्सीजन के बिना एक पल भी बिताना संभव न हैं । इस धरती पर जितने भी प्राणी है, जंतु,व जानवर हैं। उन्हें आँक्सीजन कि अपरिहाय आवश्यकता हैं। यहाॅ तक एक छोटे पौधें भी प्रकाश -संशलेशन क्रिया मे ऑक्सीजन का प्रयोग करते हैं।

 विश्व में Oxygen कि मात्रा कितनी है , आइऐं जानते हैं?

पृथ्वी पर प्राकृतिक में जितने भी गैस हैं,मौदुद उनमें सबसे ज्यादा nitrogen गैस कि मात्रा 78.08% हैं। तो ऑक्सीजन कि मात्रा वही 20.95% हैं। कार्बन-डाइऑक्साइड कि मात्रा वही 0.93% हैं।

एक व्यक्ति प्रति दिन कितना Oxygen लेता हैं?

जब हम सांस लेते व छोरतें हैं 15% ऑक्सीजन वापस निकल जाती हैं। इसी प्रकार हम प्रति मिनट 400 मिलीलिटर ऑक्सीजन का श्वसन क्रिया उपयोग कर लेते हैं। तो वही एक व्यक्ति 24 घंटे मे 576 लीटर ऑक्सीजन का श्वसन में उपयोंग कर लेती हैं।

मनुष्य के शरीर मे Oxygen की मात्रा कितना होना चाहिए ?

मनुष्य के शरीर मे ऑक्सीजन कि न्युनतम मात्रा 95% और अधिक मात्रा 100% होना चाहिए ।

हमे कैसे पता चला कि हमारे शरीर मे ऑक्सीजन कि कमी हो गई है?

जब हमारे शरीर मे आॉक्सीजन कि निश्चित मात्रा से कम हो जाती है। तो हमे सिरदर्द, सास मे तकलीफ भ्रम बेचैनी का अनुभव होता हैं।

क्या 19.5 Oxygen सुरक्षित है ?

यह हमारे लिए सुरक्षित नही हैं। इतना कम % ऑक्सीजन वाले मनुष्य को यह वातावरण को हानीरहित मालूम परती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Verified by MonsterInsights