hindwatch@gmail.com

Share whatsapp Facebook Linkedin Twitter

ताज महल की क्या है असली सच्चे जान कर आप भी होंगे खुश

दोस्तों आज हम अपने देश के रोमांचक इमारत ताजमहल के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करेंगे हम इस निबंध के माध्यम से आपको ताजमहल की खूबी बताने की पूरी कोशिश करेंगे"

ताजमहल भारत का ऐतिहासिक स्मारक है जिसकी सौंदर्यता पूरे विश्व में विख्यात है जब भी हम ताजमहल का नाम लेते हैं तो यह शाहजहां के पत्नी और शाहजहां के बीच प्रेम को उजागर करता है यह इमारत पूरे विश्व में प्रेम की निशानी है इस स्मारक को भारत के मुगल शासक शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में 1631 में इसके मृत्यु उपरांत बनवाया था इसे इतने सालों पहले बनाया गया था फिर भी इसमें काफी उच्च तकनीक का प्रयोग किया गया था यह पूरा इमारत सफेद संगमरमर का बना हुआ है यमुना नदी से यह लगभग 2.5 किलोमीटर की दूरी पर है ताजमहल को इस नदी के किनारे इसलिए बनाया गया था कि इसकी पानी से अंदर ही अंदर में आबनूस और महोगनी की डाली गई इकट्ठा लकड़ियों को यमुना नदी पानी नाम रख सके और ताजमहल के  को मजबूती प्रदान मिले

ताजमहल बनाने के पीछे का इतिहास

शाहजहां मुमताज के सौंदर्य को इस्लाम धर्म के विरुद्ध होने के कारण मूर्ति में तो डाल नहीं सकता था इसलिए उसने मुमताज की खूबसूरती को ताजमहल के रूप में दिया 

जयपुर नरेश मानसी का बाग आगरा में स्थित था मुमताज के मकबरे के लिए यह बात शाहजहां को पसंद आया ताजमहल का नक्शा निवासी उस्ताद ईसा ने बनाया अब्दुल हमीद लाहौरी बादशाहनामा में बताया है कि ताजमहल 12 वर्षों में 20000 मजदूरों ने बनाया और इसके निर्माण में 5000000 रुपए लगे थे 21 जुलाई 1960 ईस्वी में के साप्ताहिक हिंदुस्तान में सुरेश चंद्र जोशी ने ताजमहल की लागत 6 करोड़ रुपए बताई है इतिहासकारों के अनुसार इसका निर्माण 1632 इसी में प्रारंभ हुआ और 1648 यह बनकर पूरी तरीके से तैयार हो गया इसके निर्माण में चार बाग पद्धति कुछ परिवर्तन के साथ अपनाई गई है इसकी वस्तु कला में मध्य एशिया ईरान और भारत की वास्तुकला का उपयोग किया गया है इस के वास्तुकार उस्ताद अहमद लाहौरी को शाहजहां ने नादिर उज असर  की उपाधि दी थी ताजमहल सफेद संगमरमर की बनी विश्व की श्रेष्ठतम इमारत है श्रीमती माधवी श्रीवास्तव ने इसे सौंदर्य का पर्यायवाची कहा है तथा वे कहती हैं कि सुंदर के साथ  एक अनंत शांति का सुखद अनुभव होता है

ताजमहल को यूनेस्को के द्वारा विश्व विरासत के रूप में चिन्हित किया गया और 7 जुलाई 2007 एक को विश्व का सातवां अजूबा चुना गया ताज महल के अंदर शाहजहां और मुमताज की कब्र है ताजमहल के तहखाने में जो 22 कमरे हैं उनमें चार कमरे बड़े हैं और 18 कमरे छोटे हैं इसके अलावा हर कमरे में जाने के रास्ते अलग अलग से है ताजमहल की गहराई में तकरीबन एक हजार गुप्त कमरे भी बनवाए गए थे