hindwatch@gmail.com

Share whatsapp Facebook Linkedin Twitter

सुप्रीम कोर्ट ने 3 साल बाद दीया भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को सविधान में संशोधन करने का

कुलिंग ऑफ पीरियड के नियमों और संसाधनों में बदलाव के लिए भारत क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(BCCI) ने 2019 में सुप्रीम कोर्ट से अपील किया था जिसका परिणाम 3 साल के बाद आया है


BCCI संविधान बदलाव करने के लिए करीब 3 साल  पहले से  हीअपील सुप्रीम कोर्ट में किया गया था जिसका नतीजा 3 साल बाद  आया है जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने  आखिरकार मंजूरी दे दिया है सुप्रीम कोर्ट ने BCCI को अपने  संविधान में बदलाव करने का इजाजत दे दी है और अब 6 साल तक राज्य क्रिकेट संघ या BCCI  में रह सकते हैं जिसमें कूलिंग ऑफ पीरियड के नियमों को और बोर्ड अधिकारी के कार्यकाल के नियमों! दोनों के नियमों में  ढील दिया गया है भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) .

के अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह जो सोच रहे थे वह पूरा हो गया अब और 3 सालों के लिए भी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष बने रहने का रास्ता अपना साफ कर लिया है
आपको बता दे की करीब 3 सालों से फंसे इस मामले  को अदालत ने 14 सितंबर बुधवार को इस मामले पर  अपना अंतिम फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अपील को स्वीकार कर लिया और बोर्ड के द्वारा कार्यकाल को लेकर प्रस्तावित संशोधन पर अपना  मंजूरी दे दी है जिसके कारण सौरभ गांगुली और जय शाह तत्कालीन प्रभाव से अपने पदों पर एक बार फिर से 3 साल के लिए बनाना तय हो गया है

कार्यकाल कूलिंग ऑफ पीरियड था क्या  ?

सुप्रीम कोर्ट के द्वारा लोड़ा सुमित ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड  का सविधान  बनाया गया जिसके अंतर्गत कोई भी पदाधिकारी  लगातार 6 साल से ज्यादा किसी भी पद पर है नहीं रह सकता है जिसमें  राज्य  जिसमें  राज्य संघ या बीसीसीआई दोनों को मिलाकर 6 साल सम्मिलित थे जिसके बाद 3 साल के  कूलिंग ऑफ पीरियड  पर अवश्य जाना था

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का अपील हुआ  और सुप्रीम कोर्टने अपना फैसला सुनाया 

सौरभ गांगुली और जयशाह ने  अक्टूबर 2019 को चुनाव के बाद कार्यकाल संभाला और दिसंबर में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने कुछ नियमों को संशोधन के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील किया और यह भी कहा गया था कि बीसीसीआई और राज्य संघ को एक साथ सम्मिलित करना ठीक नहीं रहेगा इसके बदले बीसीसीआई  में 6 साल ताक कार्यकाल संभालने की इजाजत  मांगी गई इस फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना मंजूरी दे दी है राज्य संघयाभारतीय क्रिकेटकंट्रोल बोर्ड मे लगातार दो कार्यकाल या नहीं 12 साल  का कार्यकाल संभालेंगे हालांकि कोर्ट ने यह भी कहा है की  इसके बाद कूलिंग ऑफ पीरियड का 3 साल पूरा करना होगा