Print Friendly, PDF & Email


युवराज सिंह क्रिकेट की पिच और जिंदगी के मैदान दोनों जगह अपनी परफॉर्मेंस दिखाकर जीत हासिल कर चुके हैं। जब वे मैदान में उतरे तो खूब रन बनाए और जब कैंसर के चपेट में आये तो वहां भी जिंदगी के साथ जमकर खेले और कैंसर को पवेलियन से बाहर का रास्ता दिखा दिया।
इतनी बार खुद को साबित करने के बाद भी अगर आज युवराज को यह कहना पड़ रहा है कि मुझे लगता है दो-तीन आईपीएल और खेल सकता हूं, तो इसका मतलब है कि लोग उन्हें रिटायर करना चाहते हैं।
हालांकि कैंसर से उबरने के बाद युवराज सिंह ने अभी भी टीम इंडिया में वापसी की उम्मीद नहीं छोड़ी है। हाल के दिनों में रिटायरमेंट से जुड़े बयान में उन्होंने कहा कि वह अपनी शर्तों पर ही क्रिकेट से संन्यास लेंगे।
टीम इंडिया से बाहर चल रहे हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह का मानना है कि अभी कुछ साल और युवराज ने कहा कि वह अभी दो-तीन साल आईपीएल खेल सकते हैं।
युवराज ने इच्छा जताई है कि वह कैंसर मरीजों और कैंसर को हराने वाले लोगों के लिए काम करना चाहते हैं। युवराज सिंह का संगठन यूवीकैन कैंसर के क्षेत्र में ही काम कर रहा है।
युवराज चाहते हैं कि वह हाशिए पर जिंदगी बिता रहे बच्चों के लिए भी काम करें। यह दिग्गज क्रिकेटर चाहता है कि वह ऐसे बच्चों को कोचिंग दे और उनके अंदर खेल संस्कृति का विकसित करें।
उम्मीद है कि हम आने वाले दिनों में युवराज को भारत की तरफ से एक बार खेलते देखेंगे।
इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

यह भी पढ़ें :  उखड़े खंभे (व्यंग्य) : हरिशंकर परसाई