चुवां से पानी भरती महिला(तस्वीर हिन्द वाच)
Print Friendly, PDF & Email

ग्रास रुट रिपोर्टर किशन कुमार दत्ता की रिपोर्ट

रांची : रांची से सटे इलाके बुंडू, राहे एवं सोनाहातू इलाके में इन दिनों जल संकट उत्पन्न हो गया है। लोगों को अहले सुबह  पानी की तलाश में निकलना पड़ता है। गर्मी के कारण जलस्तर काफी नीचे चले जाने के कारण  नदी, कुआं, चापाकल और तालाब सुख गये हैं।

तमाड़ के डुँगीरडीह गाँव में नदी से पानी भर रही महिला रोपनी देवी से बात करने पर पता चला कि सुबह पांच बजे से यहां की महिलायें पानी इकठ्ठा करने के उद्देश्य से घर से निकल जाती हैं और नदी में  चुवां बनाकर पानी इकठ्ठा करती हैं। स्थानीय स्कूलों, कार्यालयों, प्राइवेट शैक्षणिक संस्थानों एवं सरकारी दफ्तरों में भी जल संकट का प्रभाव दिख रहा है। हल्की बारिश से भी कुछ लाभ नहीं मिल पा रहा है।

कांची नदी(तस्वीर हिन्द वाच)

बुंडू में एसडीओ के कार्यालय के सामने एक प्याऊ बना हुआ है जो वर्षो से ख़राब पड़ा है। ये  प्याऊ  एसडीओ के कार्यालय के मात्र 10 कदम दूर   स्थित है। इसी के समीप दो शौचालय का निर्माण भी कराया गया है लेकिन पानी नहीं होने के कारण यहाँ भी ताला लटका हुआ रहता है। यही हालत  बुण्डू प्रखंड कार्यालय में भी है। यहां बनाये गये तीनों प्याऊ खराब पड़े है।

 

स्थानीय लोगों का आरोप है कि प्रशासनिक अनदेखी के कारण  कांची नदी से अंधाधुंध बालू उठाव जारी रहने की वजह से भूजलस्तर गिरता जा रहा है और प्रशासन द्वारा निर्मित प्याऊ व अन्य जलस्रोत भी देखरेख के अभाव में दिखाने के दांत बन कर रह गये हैं। जल संकट से जूझ रही स्थानीय जनता मानसून की बाट जोह रही है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓