Print Friendly, PDF & Email

नई दिल्ली (नेशनल डेस्क)।
गोकशी की कथित घटना के बाद उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में बजरंग दल के सदस्यों और अन्य हिंदूवादी युवाओं की भीड़ द्वारा की गयी हिंसा में मारे गए पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या मामले में एक नया मोड़ आया है। हालाँकि यह अभी अपुष्ट खबर है लेकिन इसे बड़ी खबर कहा जा सकता है कि सुबोध सिंह की हत्या, मीडिया में प्रकाशित ख़बरों के अनुसार, एक एक आर्मी जवान ने की है, जिसका नाम जीतू फौजी है।

एक प्रमुख टीवी चैनल ने अपनी वेबसाइट पर 7 दिसम्बर की सुबह सूत्रों के हवाले से इस खबर को प्रकाशित करते हुए लिखा है कि छुट्टी पर जम्मू-कश्मीर से घर आए जीतू फौजी की गोली से ही इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हुई है। हालांकि, खबर में यह भी लिखा गया है कि उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा इस बात की पुष्टि अभी नहीं की गयी है।

इस मामले में पुलिस का कहना है कि छुट्टी पर घर आया हुआ बीएसफ का जवान जीतू फौजी हिंसा के वक्त घटनास्थल पर कई बार देखा गया था। इस मामले में पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज किया है उसमें मुख्य आरोपी बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश राज सहित 27 अन्य लोग नामजद हैं।

यूपी पुलिस के एक बड़े अधिकारी के मुताबिक, स्थानीय, आरोपी और मौके पर मौजूद रहे लोगों से पूछताछ पर जीतू उर्फ फौजी का नाम सामने आया है। उसे पकड़ने के लिए दो टीमें निकल चुकी हैं। इस बीच मीडिया से बात करते हुए जीतू फौजी की माँ ने कहा है कि “मेरा बेटा गांव में मौजूद नहीं था, अगर वह दोषी पाया जाता है तो वह खुद उसे गोली मार देंगी। जीतू की माँ का यह भी कहना है कि उनके पति से पुलिस ने जबरदस्ती दबाव डालकर ये बातें उगलवाई हैं।

जीतू फौजी घटना में नामजद आरोपी है। जीतू फ़ौजी घटना के तुरंत बाद भागकर अपना बटालियन चला गया। जीतू का भाई धरमेंद्र भी आर्मी में है और वह पूणे में तैनात है। पुलिस ने जीतू के पिता राजपाल से पूंछताछ की, जिसमें से पता चला कि घटना के दिन जीतू गांव में ही था।

पुलिस का कहना है कि बिलकुल महाव गांव के ही खेत में गाय का मांस मिला था। पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज कराया है, उसमें जीतू फौजी का भी नाम है। घटना के वक्त जीतू दिखा भी था, मगर उसके बाद वह तुरंत जम्मू-कश्मीर फरार हो गया।

वहीं दूसरी ओर पुलिस में एक और एफआईआर दर्ज कराई गई है। यह एफआईआर गोकशी मामले में है। बजरंग दल के योगेश राज ने यह एफआईआर दर्ज कराई है। इसमें सात मुस्लिमों के नाम हैं, जिनमें से एक नाबालिग है। यूपी पुलिस योगेश राज की तलाश कर रही है। हालांकि, योगेश राज ने एक वीडियो जारी कर कहा कि वह घटना के वक्त घटनास्थल पर नहीं था और उसने गोली नहीं चलाई है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓