Print Friendly, PDF & Email



या साल हर तीन सौ पैंसठ दिनों के बाद आ जाता है लेकिन 2018 के पहले दिन को हम इस लिहाज से अलग कह सकते हैं कि इस दिन ने देश के दो युद्ध स्मारकों को भी जातीय बहस का हिस्सा बना डाला| 200 वर्ष पहले 500 महारों की ब्रिटिश सैन्य टुकड़ी ने हजारों (अलग-अलग दस्तावेजों में 20 हजार से 28 हजार) पेशवा सैनिकों को धूल चटाकर मराठा शासन को इस देश से खत्म किया था| उन वीर लड़ाकों की याद में अंग्रेजों ने वैसा ही युद्ध स्मारक भीमा कोरेगांव में ‘जय स्तंभ’ (विक्ट्री पिलर) के नाम से बनाया जैसा देश की राजधानी दिल्ली में इंडिया गेट के नाम से बनवाया गया है| यह अंग्रेजों की परम्परा रही है| ऐसे विजय के प्रतीक देश के अन्य स्थानों पर आज भी मिल जाएंगें| दिल्ली के नजदीक नॉएडा के गाँव छलेरा में भी ऐसा ही एक युद्ध स्मारक है जिसे स्थानीय लोग ‘विजय गढ़’ कहते हैं| युद्ध में शहीद सैनिकों के गाँव के आस-आस ब्रिटिश हुकूमत ऐसे स्मारकों का निर्माण करवा दिया करती थी|

भारत का दलित समाज आज भी 1 जनवरी को क्रूर पेशवाओं पर प्राप्त विजय के दिन को ‘शौर्य दिवस’ के रूप में मनाता है| यहां यह समझना बहुत जरूरी है कि यह महज जातीय कारणों से नहीं बल्कि विशुद्ध रूप से सामाजिक कारणों की वजह से किया जाता है|

1 जनवरी 1818 को छोटी सी महार सैन्य टुकड़ी द्वारा अनुशासित, प्रशिक्षित और सुसज्जित मानी जाने वाली विशाल पेशवा सेना पर प्राप्त किए गए विजय के भारत के दलित समाज के लिए अनेक मायने हैं| 19वीं सदी के पेशवा राज में दलितों की सामाजिक स्थिति को समझे बिना, कोरेगांव विजय का दलितों के लिए महत्त्व को नहीं समझा जा सकता है| भारतीय इतिहास का यह वही कलंकित दौर था जब जाति विशेष के लोगों के गले में हांडी और कमर में झाड़ू बंधा होता था| जब जाति को छिपाना अक्षम्य अपराध की श्रेणी में आता था| पेशवा शासकों द्वारा इंसानों के एक समुदाय को अछूत घोषित कर उनपर लम्बे समय से शोषण और भेदभाव किया जा रहा था| भीमा कोरेगांव विजय ने इस देश से पेशवा राज का अंत कर अंग्रेजी हुकूमत को बहाल किया| भारत का दलित समाज आज भी 1 जनवरी को क्रूर पेशवाओं पर प्राप्त विजय के दिन को ‘शौर्य दिवस’ के रूप में मनाता है| यहां यह समझना बहुत जरूरी है कि यह महज जातीय कारणों से नहीं बल्कि विशुद्ध रूप से सामाजिक कारणों की वजह से किया जाता है| अपमान और अमानवीयता के जीवन से मुक्ति पाने के लिए और सम्मान व स्वतंत्रता हासिल करने के लिए दुनिया में अनेक क्रांतियां हुयीं हैं|

भीमा कोरेगांव में निर्मित जय स्तंभ (विक्ट्री पिलर) पर हर साल 1 जनवरी को हजारों की संख्या में न सिर्फ दलित बल्कि मराठा, मुस्लिम, प्रगतिशील, बौद्ध और ओबीसी समुदाय के लोग शौर्य दिवस मनाकर 1818 युद्ध के उन महार लड़ाकों को सम्मान देने के लिए एकत्रित होते हैं| यह एक सच है कि भीमा कोरेगांव भारत की एक बड़ी आबादी के लिए तीर्थ बन चुका है लेकिन यह भी एक कड़वा सच है कि इस देश की मुख्यधारा की मीडिया इसकी घोर अनदेखी करता चला आया है|

नववर्ष की चकाचौंध भरी खबरों, अपराध की घटनाओं, छलकते जामों और गैर-जरूरी न्यू इयर सेलिब्रेशंस के लिए जितना ‘स्पेस’ भारत की प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया में दिया जाता है, उसके मुकाबले भीमा कोरेगांव की मुक्तिगाथा के लिए स्थान नगण्य रहा है|

इस वर्ष तो मीडिया ने हद्द तब कर डाला जब अनेक अखबारों और वेबसाइट पर यह लिख दिया गया कि 1818 में पेशवा सेना के खिलाफ लड़ा गया युद्ध ‘भारत’ के खिलाफ लड़ी गयी लड़ाई थी| सबसे पहले मीडिया को यह समझना होगा कि जिस कालखंड में भीमा कोरेगांव की लड़ाई हुयी थी या उस दौर की अन्य लड़ाईयां अंग्रेजों या अन्य आक्रांताओं द्वारा की गयी थीं, उस समय तक ‘भारत एक राष्ट्र’ जैसी कोई संकल्पना ही नहीं बनी थी| इस भौगोलिक भूभाग के अनेक खंड थे जिस पर अलग-अलग व्यक्तियों या कहें वंशों का शासन चलता था| युद्ध होते थे और विजेता को राज करने का अधिकार मिल जाता था| घुम्मकड़ और लड़ाकू क़बीलों के दौर से राजघरानों तक जैसे अनेक आक्रमणकारी भारत में आए वैसे ही अंग्रेज भी यहाँ आए। तब तक ‘भारत देश’ जैसी कोई कल्पना नहीं थी|

200 साल राज करने के बाद भी जब अंग्रेज वापस जा रहे थे, मतलब आज़ादी व विभाजन से पहले तक यहाँ ब्रिटिश शासित क्षेत्र के अलावा भी छोटे-बड़े कुल 565 स्वतन्त्र रियासतें थी| भारत का मौजूदा स्वरूप तो इन सब को एक सूत्र में बांधकर भारतीय परिसंघ का हिस्सा बनाए जाने के बाद ही बन पाया| हैदराबाद, जूनागढ़, कश्मीर और भोपाल के रियासतों ने भारत को आकार लेता देखने के बावजूद आसानी से विलय के लिए मंजूरी नहीं दिया था। उनमें भोपाल का विलय सबसे अंत में भारत में हुआ था। सिक्किम को तो 1975 में जनमत-संग्रह के बाद भारत के 22वें राज्य के रूप में शामिल किया गया था| तो यह कहना कि 1818 में भीमा कोरेगांव में किया गया युद्ध भारत के विरुद्ध युद्ध था, महज एक भूल ही हो सकती है|

मीडिया तब और लापरवाह दिखता है जब उसके द्वारा ऐतिहासिक सन्दर्भ की घटनाओं को पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर देखने या परोसने का प्रयास किया जाता है| जब कोई लेखक, पत्रकार या संपादक यह लिखता है कि भीमा कोरेगांव में बना ‘जयस्तंभ’ अंग्रेजों का साथ देने वालों का स्मारक है, तब उन्हें यह भी बताना चाहिए कि आखिर इंडिया गेट क्या है? देश की राजधानी के राजपथ पर बना इंडिया गेट भी एक सैनिक स्मारक ही है जिसकी लाल और पीले बलुआ पत्थर की देह पर 13300 भारतीय और ब्रिटिश सैनिकों व अधिकारियों के नाम खुदे हैं| इन भारतीय सैनिकों ने भी अंग्रेजी सत्ता के लिए भारत से बाहर प्रथम विश्व युद्ध और अफगान युद्ध में भाग लिया था| यह कैसे हो सकता हैं कि ब्रिटिश सेना में लड़ने वाले भारतीय सैनिकों की याद में बने एक स्मारक को अंग्रेजों का साथ देने वालों का प्रतीक स्थल कहा जाये और दुसरे को ऎसे पूज्यनीय स्थल की तरह स्थापित किया जाये जहाँ खड़े होकर देश के राष्ट्रपति गणतंत्रता दिवस पर सेना की सलामी लेते हुए राष्ट्र के शक्ति प्रदर्शन और गौरवपूर्ण झांकियों पर गौरवान्वित होते हों| लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहे जाने वाले मीडिया द्वारा युद्ध स्मारकों को भी जातीय चश्में से देखा जाना लोकतंत्र के साथ किया जाने वाला धोखा नहीं तो और क्या है?

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...



SHARE
Previous articleमहाराष्ट्र बंद- बढ़ती हिंसा और धारा 144 से थम गया राज्य
Next articleराष्ट्रनिर्माण में मार्गदर्शक की भूमिका निभाता है साहित्य
समानता और लोकतंत्र में गहरी आस्था रखने वाले सुशील एक निर्भीक पत्रकार होने के साथ-साथ प्रगतिशील युवा कवि और सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं। अनेक प्रतिष्ठित पत्र–पत्रिकाओं एवं साहित्यिक ई–पोर्टल्स में उनकी कविताएँ, आलेख और लघुकथाएँ प्रकाशित हो चुकी है। ग्रास-रूट जर्नलिज्म (ज़मीनी पत्रकारिता) उनके काम की विशेषता है। लेखन के साथ–साथ सामाजिक–सांस्कृतिक क्षेत्र में भी वे बेहद सक्रिय हैं। उन्होंने लम्बे समय तक एच.आई.वी./एड्स जागरूकता और बचाव के लिए उच्य जोखिम समूह के साथ काम किया है। सुशील हिंद वॉच मीडिया समूह के संपादक हैं। हिंद वॉच जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल, मोबाइल ऐप और व्यापक सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।