Print Friendly, PDF & Email



आपने कई बार सुना होगा कि अगला विश्वयुद्ध पानी को लेकर होगा। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि जिस तरह से दुनिया भर में जल संकट बढ़ रहा है और जल का बाजारीकरण किया जा रहा है, जल की अफरातफरी में हिंसा और लूट खसोट का खेल विश्व युद्ध का रूप ले ले।

इसके शुरुआती लक्षण भी दिखने लगे हैं। जिस तरह से नल के कनेक्शन को लेकरऔरंगाबाद में दो समुदायों के बीच हिंसक झड़प, 2 की मौत, तनाव का माहौल है, वो दिन दूर नहीं।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में शुक्रवार देर रात दो समुदायों के बीच हुई झड़प के बाद तनाव का माहौल बना हुआ है। देर रात दो समुदायों के बीच नल का कनेक्शन तोड़ने को लेकर शुरू हुए विवाद के बाद पथराव और आगजनी की घटनाएं हुई है, जिसके बाद उपजे तनाव के बीच कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। इस हिंसा में एक शख्स की जान चली गई और कई लोग जख्मी हो गए। तनाव के मद्देनजर जिले में धारा 144 लागू की गई है।

ख़बरों की मानें तो औरंगाबाद जिले में शुक्रवार देर रात दो समुदायों के बीच नल के कनेक्शन को तोड़ने के मुद्दे के लेकर विवाद शुरू हो गया था।

इस विवाद के कुछ देर बाद ही जिले में तनाव बन गया जिसके बाद दो समुदाय के लोग सड़कों पर उतर आए और एक दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान भीड़ में शामिल कुछ उपद्रवियों ने सड़क पर मौजूद वाहनों में तोड़फोड़ करने के बाद इसमें आग लगा दी।

यह भी पढ़ें :  राष्ट्रपति पद के लिए आनंदीबेन सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार : सुब्रह्मण्यम स्वामी

डीसीपी (जोन-वन) विनायक ढाक ने कहा कि हमलोगों ने प्रभावित इलाके भारी तादाद में पुलिसवालों की तैनाती की है। उपद्रवियों के खिलाफ हमलोग कड़ी कार्रवाई करेंगे। वहीं, महाराष्ट्र सरकार ने आम लोगों से अपील की है कि वे अफवाहों पर ध्यान ना दें।

घटना की जानकारी मिलने के बाद जिले के असिस्टेंट पुलिस कमिश्नर गोवर्धन कोलेकर भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे, जिसके बाद भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए। वहीं इस कार्रवाई का विरोध करते हुए भीड़ में शामिल कुछ युवकों ने पुलिस पर भी पथराव कर दिया।

इस झड़प में असिस्टेंट कमिश्नर गोवर्धन कोलेकर, इंस्पेक्टर हेमंत कदम और इंस्पेक्टर श्रीपद परोपकारी समेत कुल 10 लोग से घायल हो गए। इसके बाद तनाव की स्थिति को देखते हुए हिंसाग्रस्त इलाकों में महाराष्ट्र पुलिस के जवानों समेत केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की भी तैनाती की गई।

बताया जा रहा है कि औरंगाबाद में देर रात शुरू हुई इस हिंसक झड़प में एक स्थानीय युवक की मौत हुई है। इसके साथ ही हिंसा में स्थानीय बाजारों की कुछ दुकानों को भी नुकसान हुआ है। हिंसक झड़प की घटनाओं के बाद जिले में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। साथ ही तमाम सुरक्षा एजेंसियों और प्रशासन के अधिकारी लगातार हालात पर नजर बनाए हुए हैं।

यह संकेत किस भी समाज में लिए अच्छे नहीं हैं। सरकार, कानून को इस पर मौन नहीं बैठना चाहिए।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...