Print Friendly, PDF & Email

आजकल टीवी बच्चों को नाश्ते की तरह पेश किया जाता है। हर काम करते समय उन्हें टीवी पर कार्टून भी देखने होते हैं। पैरेंटिंग्स में भी इसे एक बड़ी परेशानी के तौर देखा गया है।

दरसअल आज के दौर में सब इतने बिजी हैं कि बच्चों के लिए किसी के पास जरा सा भी वक़्त नहीं। इस कारण वे नजे सिर्फ टीवी में बिजी रहते हैं बल्कि उसके विज्ञापनों में दिखाए जा रहे जंक फूड खाकर मोटे भी हो रहे हैं।

एक्सपर्ट भी मानते हैं कि टीवी विज्ञापन के कारण जंक फूड खाकर मोटे हो रहे बच्चे। टीवी पर घंटों चिपके रहने की बजाय एडफ्री साइट पर फ़िल्म या सीरीज देखना ज्यादा ठीक मानते हैं ये।

वैज्ञानिकों ने एक नए अध्ययन में पाया कि टीवी पर दिखाए जाने वाले विज्ञापन युवाओं के खराब स्वास्थ्य के लिए जिम्मेदार है।

इस अध्ययन के अनुसार एक साल में टीवी कम देखने वालों की तुलना में अधिक टीवी देखने वाले युवा, 500 से अधिक अतिरिक्त चिप्स, बिस्किट और ठंडे पेय पदार्थों का सेवन करते हैं।

‘कैंसर रिसर्च यूके’ ने 11 से 19 वर्ष की आयु वाले 3 हजार 348 युवाओं से उनकी टीवी देखने की आदतों और खानपान से जुड़ी आदतों पर सवाल किए।

टीवी पर फिल्म या सीरियल देखने के दौरान विज्ञापन देखने वाले युवा, शक्तिवर्धक और अन्य ठंडे पेय (जिनमें शर्करा अधिक होता है) और टेकअवे और चिप्स जैसी चीजों का सेवन अधिक करते हैं।

इस तरह अगर आपके बच्चे भी इस लत के शिकार हैं तो इसे जल्द बदल डालिए क्योंकि मोटापा ही हर बीमारी का कारण है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓