आदिवासी सेंगेल आन्दोलन के कार्यकर्ताओं ने निकली रैली (तस्वीर : हिंद वॉच)
Print Friendly, PDF & Email

                                                                 सिमडेगा से ग्रास रुट रिपोर्टर देव दर्शन बड़ाईक की रिपोर्ट
सिमडेगा, झारखंड
ल्बर्ट एक्का स्टेडियम से आदिवासी सेंगेल आन्दोलन के कार्यकर्ताओं ने रैली निकाली। यह रैली कचहरी रोड, महावीर चौक, झूलन सिंह चौक एवं मुख्य पथ होते हुए समाहरणालय पहुँची जहां राष्ट्रपति एवं राज्यपाल के नाम उपायुक्त जटाशंकर चौधरी को ज्ञापन सौंपा। रैली में शामिल लोगों ने भूमि अधिग्रहण बिल के विरोध में एवं सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इसके पूर्व अल्बर्ट एक्का स्टेडियम में आदिवासी सेंगेल आन्दोलन के कार्यकर्ताओं के द्वारा सभा का भी आयोजन किया गया। आदिवासी सेंगेल आन्दोलन के राष्ट्रीय अध्यक्ष थेयोदोर किडो ने सभा में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि भूमि अधिग्रहण बिल आदिवासी समाज विरोधी है। इसे आदिवासी समाज कभी भी बर्दाश्त नहीं कर सकता है। इस बिल से आदिवासियों का अस्तित्व ही मिट जाएगा। आदिवासी अपने ही घर से विस्थापित हो जाएंगे। भाजपा सरकार आदिवासियों की जमीन पूंजीपतियों को देना चाहती है।

जल, जंगल और जमीन पर से हमारा अधिकार छीनना चाहती है। ऐसी स्थिति में हमलोगों को एकजुट होने की जरुरत है। छोटानागपुर प्रमंडलीय अध्यक्ष नील जस्टिन बेक ने कहा कि भूमि अधिग्रहण बिल आदिवासी समाज के लिए काला कानून के समान है। इस कानून के लागू होने से आदिवासियों का अपने जमीन पर से ही मालिकाना हक समाप्त हो जाएगा। ऐसी स्थिति में आदिवासी मूलवासी मिट जाएंगे। इसके लिए हमें एकजुट होकर संघर्ष करने की आवश्यकता है ताकि हम अपने अस्तित्व को बचा सकें। भूमि अधिग्रहण बिल के मसौदे को लेकर 5 जुलाई को इसके विरोध में आदिवासी सेंगेल आन्दोलन द्वारा झारखंड बंद का आह्वान किया गया है। इस बन्दी का सभी लोगों से समर्थन करने की अपील की। इस रैली में जिले भर से काफी संख्या में लोग शामिल हुए।
पोस्टल कोड 835201 835211 835212 835223 835226 835228 835235

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓