Print Friendly, PDF & Email



अमेज़ॅन इंडिया की हाल ही में लॉन्च की गई विज्ञापन मुक्त संगीत लहराने वाली सेवा, अमेज़ॅन प्राइम म्यूज़िक, कई भाषाओं,युगों और भारतीय संगीत की विधाओं में फैले दस लाख से अधिक कार्यों / स्वत्वाधिकारों के आईपीआरएस प्रदर्शनों तक पहुँच प्राप्त करेगी।

आईपीआरएस, जिसे कॉपीराइट एक्ट 1957 के तहत नवंबर 2017 में भारत सरकार द्वारा कॉपीराइट सोसायटी के रूप में पंजीकरण प्रदान किया गया था, 4,000 से अधिक भारतीय लेखकों, संगीतकार और प्रमुख संगीत प्रकाशकों का प्रतिनिधित्व करती है जिसमें सरेगामा, टाइम्स म्यूज़िक, सोनी, आदित्य, टिप्स म्यूज़िक और वीनस शामिल हैं।

आईपीआरएस गीतों और संगीत कार्यों में सार्वजनिक और यांत्रिक अधिकारों के लिए संचार के संबंध में अपने सदस्यों के एक समनुदेशिती के रूप में गीत और संगीत कार्यों को प्रशासित करती है।

आईपीआरएस के अध्यक्ष श्री जावेद अख़्तर ने कहा,”अमेज़ॅन इंडिया के साथ आईपीआरएस व्यवस्था देश में आईपीआरएस और संगीत समुदाय के लिए एक नये युग की अग्रदूत है।

दृढ़ता से एकजुट आईपीआरएस के साथ, भारतीय गीतकार और संगीत रचयिता अंततः हमारे संगीत प्रकाशक सदस्यों के साथ-साथ भारत में कॉपीराइट कानून में ऐतिहासिक परिवर्तनों के लाभ उठाना आरंभ कर सकते हैं।

आईपीआरएस भारत में इस तरह के मंचों के साथ इसी तरह के सहयोगात्मक और सकारात्मक संबंधों की आशा करती है और पारदर्शी और नैतिक कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध हैं”।

अमेज़ॅन म्यूज़िक के निदेशक सहस मल्होत्रा ने कहा,”हमें आईपीआरएस के साथ सहयोग करके खुशी है और हम भारतीय संगीत उद्योग के सभी महत्वपूर्ण हितधारकों के साथ अपने संबंधों को मज़बूत करने को उत्सुक हैं। हम विज्ञापन मुक्त अमेज़ॅन प्राइम म्यूज़िक की पेशकश के साथ अपने ग्राहकों को एक परिवर्तनकारी संगीत सुनने का अनुभव प्रदान करते रहेंगे जो कि भारत में प्राइम सदस्यों के लिए बिना किसी अतिरिक्त लागत पर उपलब्ध है”।

आईपीआरएस के सीईओ श्री राकेश निगम ने कहा,”भारत में अमेज़ॅन म्यूज़िक के साथ काम करना इस बात का प्रतीक है कि नए सिरे से पुनर्गठित आईपीआरएस सक्रिय और पारदर्शी रूप से अमेज़ॅन जैसी संस्थाओं के साथ भागीदारी करके अपने सदस्यों के लिए बहुत कुछ प्राप्त कर सकती हैं”।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...