Print Friendly, PDF & Email



समाज कोई भी हो, बात जब शादी व्याह की बात आती है तो अजीबोगरीब नियम कायदे सुनने को मिलते हैं। कहीं मुहूर्त को लेकर फरमान होते हैं तो कहीं निकाह को लेकर।

अब वक्फ बोर्ड का निकाह से जुड़ा हालिया फरमान देख लीजिए। दरअसल तेलंगाना वक्फ बोर्ड ने एक चौंकाने वाला फरमान जारी किया है। इस पर अमल होने की स्थिति में तेलंगाना में काजी रात में नौ बजे के बाद शादी नहीं करा सकेंगे।

वक्फ बोर्ड के फरमान के अनुसार, नई व्यवस्था 1 फरवरी से लागू होगी। राज्य वक्फ बोर्ड ने यह फैसला पुलिस अधिकारियों और मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ विचार-विमर्श के बाद लिया है।

आमलोगों को होने वाली परेशानियों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मोहम्मद सलीम ने कहा, ‘रात में नौ बजे के बाद शादी कराने वाले काजी को नोटिस जारी किया जाएगा।

साथ ही बोर्ड शादी का प्रमाणपत्र भी जारी नहीं करेगा। वक्फ बोर्ड इसके लिए जागरुकता अभियान चलाएगा। स्थानीय मस्जिदों के इमाम से भी मुस्लिम समुदाय को समझाने का आग्रह किया जाएगा।’ सलीम ने स्पष्ट किया कि शादी से जुड़ी अन्य गतिविधियां मध्यरात्रि तक चल सकेंगी।

इस नियम के सुर में सिर मिलाते हुए मात-ए-इस्लामी (तेलंगाना और ओडिशा) के अध्यक्ष हमद मोहम्मद खान ने भी इसका समर्थन करते हुए कहा कि इस्लामिक मामलों के जानकार ने शादी समारोह के तड़के तीन बजे तक चलने को सही नहीं माना।

उन्होंने कहा, ‘अतिथियों को भोजन के लिए इंतजार करना पड़ता है। यह अपमान से कतई कम नहीं है। शादी समारोह स्थल के आसपस रहने वाले लोगों को आतिशबाजी और तेज संगीत के कारण असुविधाओं का सामना करना पड़ता है।’

सुनने में भले यह जनहित के लिए उठाया गया कदम लगता हो लेकिन सच तो यह भी है कि कुछ लोग इस फैसले को निजी जीवन में दखल मानते हैं। दूसरी तरफ, समुदाय के एक तबके ने इसका समर्थन भी किया है। उनका कहना है कि इससे शादी-ब्याह में कुछ हद तक अनुशासन लाया जा सकेगा। खैर जो भी हो लोगों को अपने निजी फैसले खुद लेने का अधिकार होना चाहिए।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...