Print Friendly, PDF & Email

टीम इंडिया कुछ ज्यादा ही ओवरकांफीडेंस का शिकार है। शायद इसीलिए हर मैच को हल्के में लेती रहती है। लेकिन इस बार उसका यह रवैया उस ओर भारी पड़ गया।

और साउथ अफ्रीका ने भारत को दूसरे मुकाबले 135 रनों से हराते हुए 3 मैचों की टेस्ट सीरीज 2-0 से अजेय बढ़त बना ली है।

टीम शायद अभी भी विराट कोहली के मैरिज प्रकरण में खोई है और इसका फायदा साउथ अफ्रीका को हुआ। हाल यह है कि टीम इंडिया ने न सिर्फ सीरीज गंवाई है बल्कि रेटिंग के मामले में भी फजीहत करवाई है।

बता दें कि केप टाउन में खेले गए पहले टेस्ट में भारत 72 रनों से हार गया था। विराट कोहली की कप्तानी में यह पहली टेस्ट सीरीज हार है।

सेंचुरियन में खेले गए मुकाबले में 5वें दिन भारत को जीत के लिए 287 रनों का टारगेट मिला था। वह 52 ओवर में सभी विकेट खोकर 151 रन ही बना सकी। भारत के लिए सबसे अधिक रोहित ने 47 रन बनाए, जबकि साउथ अफ्रीका के लिए लुंगी गिडी ने अपने डेब्यू टेस्ट में ही 6 विकेट झटके, वहीं कगिसो रबाडा ने 3 विकेट चटकाए।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही और एक बार फिर उसने 16 रन तक ही दोनों सलामी बल्लेबाजों मुरली विजय (09) और लोकेश राहुल (04) के विकेट गंवा दिए।

रबाडा की नीची रहती गेंद पर विजय सही समय पर भांपने से चूक गए, जबकि राहुल ने गिडी की गेंद पर बेहद खराब शॉट खेलकर बैकवर्ड पॉइंट पर केशव महाराज को कैच थमाया। पहली पारी के शतकवीर कप्तान विराट कोहली भी इसके बाद 20 गेंद में 5 रन बनाने के बाद गिडी की गेंद पर पगबाधा हो गए।

चौथे दिन के नाबाद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा और पार्थिव पटेल कुछ खास नहीं कर सके। पुजारा रन आउट हुए, जबकि पार्थिव रबाडा की बॉल पर मोर्कल के हाथों लपके गए। इन दोनों बल्लेबाजों ने 19-19 रन बनाए। चौथे दिन का खेल खत्म होने पर चेतेश्वर पुजारा 11 जबकि पार्थिव पटेल 5 रन बनाकर खेल रहे थे। बता दें कि मैच में पुजारा के नाम शर्मनाक रेकॉर्ड दर्ज हुआ। दोनों पारियों में रन आउट होने वाले वह पहले भारतीय क्रिकेटर हैं।

यह भी पढ़ें :  ऑल इंग्लैंड ओपन : पीवी सिंधु और सायना नेहवाल क्वार्टर फाइनल में

इस तरह पूरी टीम ताश में पत्तों की तरह ढह गई और क्रिकेट प्रेमियों को निराशा के अलावा कुछ हाथ नहीं लगा।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓