Print Friendly, PDF & Email

इस्लामाबाद, पाकिस्तान
तालिबान के ‘गॉडफादर’ के नाम से विख्यात मौलाना समी-उल हक की उनके घर में हत्या कर दी गई। हमलावरों ने चाकू से हमला किया और कई वार किए। समी-उल हक पाकिस्तान में पूर्व सांसद रह चुके थे इसके अलावा फिलहाल उनकी पहचान एक धार्मिक नेता के तौर पर थी।

गौरतलब है कि समी-उल हक कट्टरपंथी राजनीतिक पार्टी जमात उलेमा-ए-इस्लाम-समी(जेयूआई-एस) और अकोरा खट्टक शहर में इस्लामी मदरसे दारुल उलूम हक्कानिया का प्रमुख भी था। पाक मीडिया के अनुसार हमलावर शुक्रवार को रावलपिंडी में उनके घर में घुसे और चाकू घोंपकर उनकी हत्या कर दी। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 82 वर्षीय हक की हत्या में जांच के आदेश दे दिए हैं।

मौत की पुष्टि करते हुए उनके पुत्र और कद्दावर धार्मिक नेता मौलाना हमीदुल हक ने जियो टीवी को बताया कि लगभग 15 मिनट के लिए उनका ड्राइवर और सुरक्षाकर्मी बाहर गए थे। जब उनका ड्राइवर लौटकर आया तो उसने मौलाना समीउल हक को खून से लथपथ बिस्तर पर पड़े देखा। उन्हें कई बार चाकू मारा गया था।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓