Print Friendly, PDF & Email


होली से पहले ही रंग में भंग पड़ने लगा है। मौका था ताज महोत्सव का थाम जहां सिंगर का रंगारंग कार्यक्रम होने वाला था लेकिन ताज नगरी का यह कार्यक्रम अपने रंग में आने से पहले ही झगड़े में तब्दील हो गया। क्यों आइये जानते हैं।
दरअसल उत्तर प्रदेश के आगरा में चल ताज महोत्सव चल रहा है। इस महोत्सव में काफी परफॉर्मेंस होती हैं। इसी के दौरान मंच पर जमकर मारपीट हुई। यह विवाद गायिका पलक मुच्छाल और गजल गायक सुधीर नारायण के बीच हुआ। गायिका पलक ने उनकी मां के साथ बदसलूकी का आरोप लगाया और बीच में ही शो छोड़कर चली गईं।
हुआ यों कि ताजमहोत्सव के मुक्ताकाशीय मंच पर प्रस्तुति का अंतिम दिन था। गायिका पलक मुच्छाल मंच पर प्रस्तुति दे रही थीं। यहां आयोजन समिति के सांस्कृतिक संयोजक और गजल गायक सुधीर नारायण और पर्यटन विभाग के अधिकारी मंच के एक ओर बैठे थे।
पलक की प्रस्तुति के दौरान एक गीत खत्म हुआ तो सुधीर नारायण ने उनके पास जाकर होली का एक गीत गाने की फरमाइश की।
लेकिन यह फरमाइश कुछ अश्लीलता से भरी थी लिहाजा इस फरमाइश को सुनकर मंच पर मौजूद पलक की मां भड़क गईं। इसके बाद सुधीर नारायण और उनके बीच कहासुनी होने लगी।
पलक की मां ने सुधीर से कहा कि वह किस हैसियत से मंच पर मौजूद हैं। चलिए हटिए यहां से। इस पर सुधीर ने कहा कि वह नहीं हटेंगे।
इस बात पर पलक के भाई पलाश मुच्छाल सुधीर की तरफ लपके, जिसके बाद दोनों में मंच पर ही हाथापाई शुरू हो गई। जिला प्रशासन ने आनन-फानन में दोनों पक्षों का अलग किया।
पलक गुस्से में मंच से उतर गईं। प्रशासन ने उन्हें रोकने का प्रयास किया लेकिन वे लोग नहीं रुके। इस घटना के बाद महोत्सव का कार्यक्रम बीच में ही बंद कर दिया गया।
कुल मिलाकर इस पूरे झगड़े में बेचारे काफी दूर से आये दर्शकों की क्या गलती थी जो बिना परफॉर्मेंस देखे खाली अरमान लेकर मायूसी में लौटने पर मजबूर हो गए।
इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...