देश को सांप्रदायिक आग में झोंकने के लिए कोई अगर सबसे ज्यादा जिम्मेदार है तो वो है नेता बिरादरी। जनता को भड़काने और उनमें बैर पैदा करने का काम यही नेता करते हैं। यह सब करते तो वे अपने वोटबैंक के लिए हैं

लेकिन इसका नुकसान समाज और देश किस कदर सहता है इसका इन नेताओं को कोई अंदाजा नहीं है।
शायद इसीलिए ये टीवी पर बहसबाजी के दौरान ऐसी बातें बोल जाते हैं जो न सिर्फ एक समाज में बैर पैदा करती हैं बल्कि फूट भी डालती हैं।

अब भाजपा के प्रवक्ता और एआईएमआईएम नेता की एक बहस ही सुन लीजिये। दोनों इस तरह बहस कर रहे हैं मानो वे तालिबानी नेता हों।

दरअसल एक चैनल पर आयोध्या के राम मंदिर को लेकर लाइव टीवी बहस में बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने एआईएमआईएम के प्रवक्ता असीम वकार को पाकिस्तानी बोला और असीम वकार ने कहा कि क्या 15 सेकेंड में मुसलमानों को मार देंगे आप?

बहस एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के रविवार (28 जनवरी) को राम मंदिर को लेकर दिए गए उस बयान पर हो रही थी जिसमें उन्होंने कहा था-

”अयोध्या का मामला सुप्रीम कोर्ट में है और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) ने पहले ही मंदिर निर्माण शुरू करने की तारीख 17 अक्टूबर 2018 की घोषणा कर दी है।

वे इतने आश्वस्त कैसे हैं कि अदालत का फैसला उनके पक्ष में आएगा?” बहस में जब संबित पात्रा का नंबर आया तो उन्होंने ओवैसी के नेता पर निशाना साधा।
संबित पात्रा ने कहा- ”इसी व्यक्ति ने जो असीम वकार यहां बैठा हुआ था रिपब्लिक चैनल में अर्णब के साथ, डिबेट में कहा कि संबित पात्रा को मैं आह्वान करूंगा कि आतंकवादी आकर मार दें। तो इस प्रकार के बयान तो ये आतंकवादियों के ये समर्थक तो करते ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें :  7वां वेतन आयोग: 100% बढ़ाकर 20 लाख रुपये की गई ग्रेच्युटी की सीमा

इसीलिए मैं इन्हें न्यू जिन्ना भी कहता हूं और मैं कहता हूं कि इन लोगों को पूरी तरह से एक्सपोज कर देना चाहिए। दुख आज इस बात का है कि हिन्दुस्तान में 500 साल के इतिहास की बात हो रही है। अरे पांच करोड़ वर्षों से भगवान राम की विधा इस देश में कण-कण में मिट्टी-मिट्टी में है। अगर हिंदुओं को विश्वास है कि भगवान राम का वहां जन्म हुआ है… अगर कोर्ट…” इसी बीच असीम वकार ने पलटवार कर दिया और कहा- ”आप 15 सेकेंड वाले लोग, भई 15 सेकेंड में मुसलमानों को मारेंगे आप?

इधर संबित पात्रा ने बोलना जारी रखते हुए आगे कहा- ”अरे बैठ जाइए, ये आतंकवादी को कहां से पकड़ के लाते हैं? ये पाकिस्तानी… अरे पाकिस्तानी बैठ जाओ… बैठ जाओ पाकिस्तानी… मत चिल्लाओ… बैठ जाओ पाकिस्तानी… अरे क्यों कि आप पाकिस्तानी हैं न… अरे आपका घर पाकिस्तान के पैसे से चलता है असीम भाई… असीम भाई आपका घर पाकिस्तान के पैसे से चलता है… आपका घर पाकिस्तान के पैसे से चलता है और मैं पाकिस्तानियों के मुंह नहीं लगता। मैं पाकिस्तानियों के मुंह नहीं लगता, इसलिए बैठ जाइए। पाकिस्तानियों के मुंह नहीं लगता…।” संबित के साथ असीम वकार भी लगातार बोलते गए। वह कह रहे थे- ”आप 15 सेंकेंड में मुस्लमानों को मारेंगे? क्यों बैठ जाएं साहब, आप जवाब दीजिए। आप डरा रहे हैं हम लोगों को? आप मुसलमानों को डरा रहे हैं? आप… मोदी जी… मोदी जी सबका साथ सबका विकास की बात करते हैं। आप बैठकर 15 सेंकेंड में मुसलमानों को मारने की बात कर रहे हैं…।”

यह भी पढ़ें :  मैं लश्कर का सबसे बड़ा समर्थक हूं: मुशर्रफ

अब इस पूरी बहस से इतना तो साबित हो जाता है कि इन नेताओं की सोच का स्तर क्या है और ये जनता के सामने किस तरह क्व आदर्श पेश कर रहे हैं। क्या जनप्रतिनिधियों को ऐसा होना चाहिए?

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Print Friendly, PDF & Email