Print Friendly, PDF & Email



होली का त्यौहार आपसी सौहार्द और प्यार मोहब्बत का त्यौहार होता है लकिन कुछ लोगों की मानसिकता इतनी निम्न स्तर की होती है की वे त्योहारों में भी जहर घोलने का काम करते हैं। अब इन लोगों को ही देखिये, जो लोग दिल्ली में होली के नाम महिलाओं पर वीर्य/स्पर्म/सीमन भरे गुबारी फेंक रहे हैं वो भी होली के नाम पर।

सुनने में ही यह कृत्य इतना गलीच और अजीब लगता है, तो फिर करने वाला कितना घटिया सोच का होगा आसानी समझा जा सकता है। बहरहाल डीयू की एक छात्रा ने आरोप लगाया है कि अज्ञात लोगों ने उसके ऊपर वीर्य से भरा गुब्बारा फेंका।

इस लड़की ने इस बाबत सोशल मीडिया पोस्ट किया है। अब पुलिस ने कहा कि मामला उसके संज्ञान में आया है और वह लड़की से संपर्क करने की कोशिश कर रही है जिससे कि जांच शुरू हो सके।

गौरतलब है कि पूर्वोत्तर की रहने वाली लड़की ने 24 फरवरी को अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में कहा, ‘मैं अमर कॉलोनी मार्केट में अपने एक मित्र के साथ एक कैफे में दोपहर भोज के लिए गई थी। जब मैं रिक्शे में बैठकर वापस आ रही थी तो कुछ लोग आए और मेरी तरफ तरल पदार्थ से भरा गुब्बारा फेंक दिया जो मेरे कूल्हे से टकराया और यह फट गया तथा इसमें भरी चीज के अंश मेरी ड्रेस पर फैल गए।’

उसके मुताबिक़ , ‘मेरी काली लैगिंग पर सफेद निशान पड़ गए। मैं अनुमान नहीं लगा सकी कि असल में यह क्या था। जब मैं हॉस्टल पहुंची तो मैंने अपनी एक अन्य मित्र को वीर्य से भरे गुब्बारे फेंके जाने की बात करते सुना।

दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टूडें पर सीमन भरे गुब्बारे फेंकने के बाद फिर से ऐसा ही एक मामला सामने आया है। अमर कॉलोनी में एक डीयू स्टूडेंट पर शाम कुछ लोगों ने सीमन भरे गुब्बारे फेंक दिए। अमर कॉलोनी पुलिस स्टेशन में देर रात पीड़ित छात्रा ने अपनी शिकायत दर्ज कराई। अभी तक पहली पीड़ित छात्रा ने कोई शिकायत दर्ज नहीं की है, लेकिन पुलिस दोनों ही मामलों की जांच कर रही है।’

दुःख की बात यह है की इस मामले में पुलिस भी सपोर्ट नहीं कर रही है। शिकायत करने वाली छात्रा ने बताया, ‘हमने चौकी के कॉन्स्टेबल से शिकायत की और कहा कि जिस घर से बलून फेंका गया है वहां जाकर हमें जांच करनी चाहिए। कॉन्स्टेबल ने इस पर कोई ऐक्शन नहीं लिया।’ एक अन्य महिला ने बताया कि गाड़ी और बाइक पर सवार कुछ लड़के भी रास्ते में औरतों पर पानी से भरे गुब्बारे फेंकते रहते हैं।

जैसी ही इस तरह कई घटनाएं हुईं एक के बाद एक सामने आ रही हैं। महिलाएं भी एक जुट होकर इसके खिलाफ खड़ी हो गयीं। कॉलेज स्टूडेंट्स ने निकाला विरोध मार्च भी। हालांकि  ऐसे कुकृत्य रोकने की सख्त जरूरत है वरना इस से त्यौहार की गरिमा नष्ट हो जायेगी।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...