Print Friendly, PDF & Email

बची हुई साँसों पर आगे
जाने क्या कुछ बीते
एक हिरण पर सौ-सौ चीते।

चलें कहाँ तक, राह रोकती
सर्वत्र नाकामी
कहर मचाती, यहाँ-वहाँ तक

फैली सुनामी
नीलकंठ हो गए जगत का
घूँट-हलाहल पीते।

सागर मंथन के अमृत पर
सबका दावा है
देव-दानवों के अंतर का

महज दिखावा है
सबको बाँट-बाँट संपतियाँ
हाथ हमारे रीते।

सूरज उगा, किरणों की
उनको सौगात मिली
चाँद सितारे उनके, हमको

काली रात मिली
जीते-जीते रोज मरे हम
मर-मर कर जीते।

चलता रहा अभाव निरंतर
अब तक यही सिला

है अपना प्रारब्ध यही तो
किससे करे गिला ?
अब तो जीवन बीत रहा है
फटे वसन को सीते।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓