एक राष्ट्रपति देश का प्रथम नागरिक होता है। उस से उम्मीद की जाती है कि वह देश हित से जुड़े फैसले लेगा और देश की जनता के संविधान से जुड़े अधिकारों की रक्षा करेगा। लेकिन फिलीपींस का राष्ट्रपति इतने घटिया बोल बोलता है कि सुनने वाला कान से खून निकालने लगे।

फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो दुतर्ते यों तो अपने विवादित बयानों के लिए सुर्खियों में रहते हैं लेकिन उनके कुछ बयान इतने अमर्यादित होते हैं कि यकीन नहीं होता कि एक राष्ट्रपति ऐसी बात कह सकता है।

दरअसल उन्होंने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि देश की सेना के जवानों को विद्रोही महिलाओं के गुप्तांग में गोली मारनी चाहिए। रिपोर्ट की मानें तो सात फरवरी को रॉड्रिगो दुतर्ते ने पूर्व साम्यवादी विद्रोहियों को संबोधित किया था।

उसमें सेना के जवानों का जिक्र करते हुए उन्होंने विद्रोही महिलाओं को निशाने पर लिया। दुतर्ते ने कहा, ‘जवानों से कहो कि महिलाओं को मारे नहीं, बल्कि उनके गुप्तांग में गोली मार दें।’

वैसे तो सत्ता में आने के बाद से दुतर्ते ने ड्रग्स लेने वाले और बेचने वाले लोगों को निशाने पर लिया हुआ है। इसी बीच वह कई बार अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहे हैं। इससे पहले उन्होंने विद्रोही महिलाओं का बलात्कार करने की भी सलाह दी थी।

ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब उन्होंने किसी के लिए इस तरह की बात कही हो। फिलीपींस के राष्ट्रपति अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के खिलाफ बेहद अभद्र टिप्पणी कर चुके हैं। इसके अलावा ड्रग तस्करों के खिलाफ चलाए गए अभियान को लेकर वह खुद की तुलना तानाशाह हिटलर से कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें :  ट्रंप के एक ट्वीट से कार कंपनी को लगी 8156 करोड़ रुपये की चपत

फिलीपींस के राष्ट्रपति के ऐसे बयान न सिर्फ अमानवीय हैं बल्कि हिंसक प्रवृत्ति के भी हैं। जब पूरी दुनिया हिंसा की आग में जल रही है और शांति की संभावना घटती जा रही है ऐसे में इस तरह के बयान न सिर्फ कट्टरता को बढ़ावा देते हैं बल्कि विकृत सोच का परिचय भी देते हैं।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Print Friendly, PDF & Email