Print Friendly, PDF & Email

रांची, झारखंड
राजधानी रांची से पुलिस की विशेष शाखा, एटीएस, साइबर थाना और रांची पुलिस की टीम ने मंगलवार शाम से देर रात तक रांची के दो ठिकानों कांटाटोली  स्थित हासिब इंक्लेव के एक फ्लैट और कांके के भीठा स्थित एक घर में छापेमारी की। छापेमारी के दौरान पुलिस को दस हजार सिमकार्ड व सिम बॉक्स मिले हैं।

ऐसा पहली बार है जब रांची में सिम बॉक्स की बरामदगी हुई है। मौके से पुलिस ने दो युवकों को हिरासत में लिया। दो कमरों में पुलिस ने सिम बॉक्स में लगे सिम कार्ड, कंप्यूटर  समेत कई चीजें बरामद की हैं। अधिकारियों के मुताबिक, देश भर में मैसेज वायरल कर धार्मिक उन्माद फैलाने से लेकर कौन बनेगा करोड़पति के नाम पर ठगी करने में सिम कार्ड का इस्तेमाल किया जा रहा था।

पूर्व में भोपाल, ग्वालियर, सतना में ऐसे ही गिरोह के खुलासे हुए हैं जहां सिम बॉक्स के जरिए एक साथ हजारों सिम कार्ड का इस्तेमाल कर आर्मी इंटेलीजेंस की सूचनाएं लीक की जा रही थीं। रांची पुलिस भी आर्मी की सूचनाओं के सिम बॉक्स का इस्तेमाल कर सुने जाने के पहलू पर जांच कर रही है। पूर्व में इसी तर्ज पर भोपाल में सेना की जानकारियां जुटाने का मामला सामने आ चुका है।

 हसीब इंक्लेव में इंतेखाब खान के फ्लैट को अशरफ नाम के व्यक्ति ने किराए पर लिया था। पूछताछ के दौरान इंतेखाब ने बताया कि अशरफ जूता कारोबारी है। उसे नहीं पता था कि फ्लैट में क्या हो रहा है।

दुबई में है सरगना जावेद अहमद
पुलिस की शुरूआती जांच में पूरे मामले के तार दुबई से जुड़े होने के साक्ष्य मिले हैं। जानकारी के मुताबिक, रैकेट का मास्टरमाइंड जावेद अहमद वर्तमान में दुबई में है। जावेद अहमद ने एक मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर कंपनी के पूर्व कर्मी अब्दुल जामिद को सात लाख देकर पटना स्थित कार्यालय से सात हजार सिम कार्ड एक्टिव कराए हैं।

इसमें  कंपनी के सीनियर मैनेजर पुरूषोतम की संलिप्तता भी सामने आयी है। पुलिस को आशंका है कि कंपनी से 10 हजार से अधिक सिम एक्टिव कराए गए हैं। इन नंबरों का इस्तेमाल धार्मिक उन्माद से जुड़े मैसेज वायरल करने, ऑनलाइन शॉपिंग और केबीसी के नाम पर धोखाधड़ी में भी किया जा रहा था।

चुनाव को भी प्रभावित कर सकता है सिम बॉक्स
पुलिस अभी इस मामले की जांच कर रही है, क्योंकि सिम बॉक्स के संचालकों की तलाश इंटरपोल भी कर रही थी। इसी सिम बॉक्स का इस्तेमाल चुनाव में भी गलत ढंग से किया जा सकता था।

क्या होता है सिम बॉक्स ?
सिमबॉक्स से कॉल किया जा सकता है और बाईपास सिम बॉक्स के जरिए किसी भी कॉल को बाईपास किया जा सकता है। यही नहीं इस डिवाइस की मदद से किसी भी इंटरनेशनल कॉल को लोकल में कंवर्ट किया जा सकता है। इसके जरिए कॉल इंटरकनेक्ट प्रोवाइडर से होकर पब्लिक लैंड मोबाइल नेटवर्क के जरिए इंटरनेशनल गेटवे पर जाता है। फिर वहां से इंटरनेशनल कॉल को सिम बॉक्स की मदद से लोकल कॉल में कंवर्ट कर दिया जाता है। कॉल कन्वर्ट करने से मार्केट रेट पर कॉल चार्ज न लगकर लोकल कॉल का चार्ज लगता है। खास बात ये भी है कि इस सिमबॉक्स से एक साथ 50 हजार लोगों को मैसेज भेजा जा सकता है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓