Print Friendly, PDF & Email

रांची, झारखंड
स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 की रैंकिंग 23 जून को इंदौर में जारी की गई। भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा कराए गए स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 का परिणाम घोषित किया गया है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस प्रतिस्पर्धा में शामिल 4041 नगर निकायों की रैंकिंग सूची जारी की है, जिसमें झारखंड के नौ शहर टॉप 100 शहरों में शामिल है। वही देश के 100 छोटे स्वच्छ शहरों में भी  झारखंड के  10 छोटे शहरों को जगह मिली है। इसके साथ ही  शहरी स्वच्छता में  प्रथम स्थान  ग्रहण करने वाले  झारखंड राज्य को PM ने  सम्मानित भी किया। इंदौर में आयोजित इस भव्य कार्यक्रम में  प्रधानमंत्री ने सम्मान देते हुए  प्रदेश के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह और स्वच्छ भारत मिशन  के निदेशक राजेश शर्मा को बधाई भी दी। टॉप 100 शहरों में शामिल 9 शहरों की रैंकिंग इस प्रकार है।

देश के सभी शहरी निकायों में किए गए सर्वेक्षण की सूची जारी करने के साथ बेस्ट परफॉर्मिंग शहर के अधिकारियों को केन्द्रीय नगर विकास मंत्री हरदीप पुरी के द्वारा पुरस्कृत किया गया। झारखंड से चास(बोकारो), मानगो(जमशेदपुर) और रांची को टॉप 25 में जगह मिली है। चास को 19, मानगो को 20 और रांची को 21 वां रैंक मिला है। देशभर में कई शहरों में किए गए स्वच्छता सर्वेक्षण की सूची केंद्र सरकार ने जारी कर दी।

रांची को सिटीजन फीडबैक में सर्वश्रेष्ठ शहर होने का अवार्ड दिया गया। वहीं झारखंड को तेजी से बढ़ते हुए राज्य सूची में पहला पुरस्कार मिला। सूची जारी होने के वक्त मौके पर नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, सूडा निदेशक राजेश शर्मा, नगर आयुक्त डॉ. शांतनु अग्रहरि सहित अन्य निकायों के पदाधिकारी मौजूद थे

स्वच्छता सर्वेक्षण-2017 में देश के 443 शहरों में सर्वेक्षण कराया गया था। इसमें झारखंड के शहरों की स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी। चास को 41वां और रांची को 117वां स्थान मिला था। खुले में शौच से मुक्त नहीं होने और सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट सख्ती से लागू नहीं किए जाने से शहरों की रैंकिंग खराब हुई थी। इस बार राज्य के सभी शहरों को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया गया है। सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट भी सख्ती से लागू किया गया है। पॉलिथीन पर रोक लगा दी गई है। इससे झारखंड को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों में नंबर एक और रांची को सिटीजन फीडबैक में नंबर एक घोषित किया गया है।

स्वच्छता सर्वेक्षण में पब्लिक फीडबैक के आधार पर कुल 1400 नंबर मिलने थे। इसमें 400 नंबर मोबाइल एप डाउनलोड करने और उससे गंदगी की फोटो भेजने और 24 घंटे में समस्या का समाधान करने पर थे। जबकि 1000 नंबर स्वच्छता सर्वेक्षण में शामिल शहर और पहले के मुकाबले हुए सुधारों के सवाल-जवाब पर थे। रांची में कुल 26 हजार लोगों ने मोबाइल एप के माध्यम से फीडबैक दिया। इसमें लोगों ने बताया कि एप से भेजी गई गंदगी की तस्वीर पर 24 घंटे के अंदर कार्रवाई हुई। स्वच्छता सर्वेक्षण कर रही कारवी की टीम ने फोन से लिये फीडबैक और लोगों से सीधी बात के आधार पर बेहतरीन नंबर दिए। इस कारण सिटीजन फीडबैक में रांची को देश भर में पहला स्थान मिला। देश भर के राज्यों की राजधानी की स्वच्छता रैंकिंग में सिटीजन फीडबैक के मामले में झारखंड की राजधानी रांची को सम्मानित किया गया। एक लाख से तीन लाख आबादी वाले शहरों में सिटीजन फीडबैक के मामले में झारखंड के गिरीडीह  को मिला सम्मान। वही देश के ईस्ट जोन में एक लाख से कम आबादी वाले शहरों में झारखंड के बुंडू को क्लीनेस्ट सिटी का मिला अवार्ड। ईस्ट जोन में ही चाईबासा को सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट में मिला अवार्ड। इनोवेशन और बेस्ट प्रैक्टिस के मामले में इसी श्रेणी में झारखंड के पाकुड़ को भी मिला अवार्ड। इस मौके पर प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में झारखंड के स्वच्छता अभियान पर आधारित एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म का भी प्रसारण किया गया।

इस उपलब्धि पर हर्ष व्यक्त करते हुए उप महापौर संजीव विजयवर्गी ने कहा – रांची शहर स्वच्छता में पूरे देश मे 21वे स्थान पर आया है। ये पूरे शहर वासियो के लिए गौरव की बात है। लगातार पूरे जन प्रतिनिधि, अधिकारियों एवं रांची की तमाम जनता के अथक प्रयास व सहयोग से संभव हो पाया है। सरकार का भी भरपूर सहयोग एवं दिशा निर्देशन भी मिला है।
पोस्टल कोड 834001

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓