Print Friendly, PDF & Email

चिड़ियाघर के तोते को है
क्या अधिकार नहीं
पंख लगे हैं फिर भी
उड़ने को तैयार नहीं।

धरती और गगन का मिलना
एक भुलावा है
खर-पतवारों का सारे
क्षितिजों पर दावा है
आवारे घन का कोई
अपना घर-द्वार नहीं।

घोर निशा के वंशज
सूरज का उपहास करें
धूप-पुत्र ओस के घरों में
कब तक वास करें।
काँटों में झरबेरी फबती
हरसिंगार नहीं।

गर्वित था जो कंटकवन का
पंथी होने में
सुई चुभ गई उसे
सुमन का हार पिरोने में
कुरुक्षेत्र में कृष्ण मिला करते
हर बार नहीं।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓