Print Friendly, PDF & Email



खूँटियों पर टँगे दिन
फटती कमीजों से रहे

धूल पीती साँस
टूटे घरों का संत्रास,
आँवे के नीचे
रहे ज्यों
किसी का रहवास
मोटे लिबासों बीच
पतली समीजों-से रहे।

बड़े घर की ओट आधे
बसे थे सपने,
पहाड़ों सी पीर
बाँधे हाथ
खून में अपने सने
साँस लेते हुए भी हम
यहाँ चीजों-से रहे।

चिटकते से रहे आँखों
आग के दाने,
अकेले की
आँच का
कोई नहीं माने
आँधियों के बीच उड़ते
पके बीजों से रहे।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

यह भी पढ़ें :  ओक्सी ने भारत में जन्म लेने वाली प्रत्येक लड़की के लिए 11,000 सावधि जमा की घोषणा की