Print Friendly, PDF & Email



मैं एक औरत के चेहरे में रहता हूँ
जो एक लहर में रहता है

जिसे उछाल दिया है ज्वार ने
उस किनारे पर खो दिया है जिसने बंदरगाह
अपनी सीपियों में

मैं उस औरत के चेहरे में रहता हूँ
हत्यारी है जो मेरी,
जो चाहती है होना
एक जड़ आकाशदीप

मेरे खून में बहते हुए
पागलपन के अंतिम छोर तक
कुछ भी नहीं बचता पागलपन के सिवाय
मैं घर की खिड़कियों पर अब झलक पाता हूँ

अनिद्र पत्थरों के बीच की नींद से दूर,
चुड़ैल के सिखाए बच्चे की तरह
कि समुद्र में रहती है एक औरत
अपने इतिहास को अँगूठी में समेटे हुए

और वह तब प्रकट होगी
जब चिमनी में लपटें बुझने लगेंगी
और मैंने इतिहास को देखा स्याह झंडे में
जंगल की तरह आगे बढ़ते हुए

मैंने कोई इतिहास नहीं लिखा
मैं, क्रांति की आग की लालसा में जीता हूँ

उनके सर्जनात्मक जहर के जादू में
मेरी मातृभूमि इस चिंगारी के सिवाय कुछ भी नहीं है,
अनंत समय के अँधेरे में यह रोशनी

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...