राजनीति का ऊंट कब किस करवट पलट जाए कोई कुछ कह नहीं सकता। कल तक प्रवीण तोगड़िया और नरेंद्र मोदी एक सुर में बात करते थे। दोनों ही हिंदुत्व के रथ पर सवार होकर सियासत करते थे लेकिन समय बदलते ही सब कुछ बदल गया।

नरेंद्र मोदी जहां सियासी मोर्चे पर आगे बढ़ते गए वहीं प्रवीण तोगड़िया हाशिये पर जाते चले गए। हाल यहां तक आ पहुंचा कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बन गए और तोगड़िया पिछले दिनों एक पार्क में बेहोशी की हालत में मिले।

बात यहां तक आ गयी कि अप्रत्यक्ष तौर पर तोगड़िया ने अपनी जान का खतरा बताया। बहरहाल एक बार फिर सब तोगड़िया ने मोदी पर हमलावर होते हुए हिंदुत्व का राग अलापा है।

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के नेता प्रवीण तोगड़िया ने एक बार फिर पीएम मोदी और बीजेपी पर निशाना साधा है।

तोगड़िया ने कहा है कि लोगों ने एनडीए को राम मंदिर बनाने के लिए वोट दिया है, ट्रिपल तलाक कानून बनाने के लिए नहीं। तोगड़िया ने कहा है कि केंद्र सरकार को राम मंदिर निर्माण के लिए कानून पास कराना चाहिए।
औरंगाबाद और परभानी की दो दिन की यात्रा पर आए तोगड़िया ने कहा कि ‘राम मंदिर निर्माण के लिए कानून पास किया जाना चाहिए, ताकि इसका निर्माण जल्द हो सके। ट्रिपल तलाक पर कानून बने या न बने, लेकिन राम मंदिर निर्णाण के लिए कानून बनना ही चाहिए।’

अब देखना होगा कि तोगड़िया के इन हमलावर तेवरों का जवाब भाजपा सरकार या नरेंद्र मोदी कोई प्रतिक्रिया देते हैं या विपक्ष इसे कोई मुद्दा बनाता है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Print Friendly, PDF & Email
यह भी पढ़ें :  लुटेरी दुल्हन के हाथों लुटे भाजपा के नेताजी