Print Friendly, PDF & Email

सीमा पर एक बार फिर पाकिस्तान ने अपनी नापाक हरकत दिखाई है। पाकिस्तानी फायरिंग और छोटी मिसाइलों से किए गए हमले में सेना के 23 वर्षीय कैप्टन कपिल कुंडू समेत 4 सैनिक शहीद हो गए।

हमला इस कदर बड़ा था कि इस तरह को हमले बंकरों को उड़ाने के लिए होता है। पाक ने ऐंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल भी दागी। इनका उपयोग बंकर उड़ाने में होता है पाकिस्तान के इस दुस्साहस के बाद भारतीय सेना ने भी जवाबी कार्रवाई की है, जिसमें पाक की चौकियों को बड़ा नुकसान हुआ है।

सेना के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘भारतीय सैनिकों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। बिना उकसावे के पाकिस्तानी सेना की ओर से फायरिंग का करारा जवाब दिया जाएगा।’ सेना के इस बयान से संकेत मिलता है कि आने वाले दिनों में पाक पर आक्रामक कार्रवाई की जा सकती है।

सीमा पार से फायरिंग के मद्देनजर सेना ने बॉर्डर के इलाकों के 84 स्कूलों को तीन दिन के लिए बंद करा दिया है।

राजौरी के डेप्युटी कमिश्नर शाहिद इकबाल चौधरी ने कहा, ‘सुंदरबनी से लेकर मंजाकोट के बीच एलओसी से 5 किलोमीटर तक के दायरे में स्थित 84 स्कूलों को हमने 3 दिनों के लिए बंद करने का आदेश दिया है।’ राजौरी जिले के भिंबर गली सेक्टर में पाक की ओर से हुई फायरिंग में कुंडू के अलावा राइफलमैन रामअवतार, शुभम सिंह और हवलदार रोशन लाल शहीद हो गए थे।

कैप्टन समेत 4 भारतीय सैनिकों की शहादत पर सीएम महबूबा मुफ्ती ने दुख जताया है। महबूबा ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘राजौरी में एलओसी पर 4 सैनिकों के शहीद होने और 2 के घायल होने की खबर से दुख हुआ है। मेरी संवेदनाएं शहीदों के परिवारों के साथ हैं।’

यह भी पढ़ें :  अमेरिका में भारतीयों की नौकरियों पर खतरा

सीमा पर मोदी सरकार अब तक कोई बड़ा और कड़ा रुख अख्तियार नहीं कर पाई है इसलिये पाक के हौसले इतने बुलंद हैं। बहरहाल अब भी तनाव व फायरिंग जारी है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓