Print Friendly, PDF & Email



फ़िल्म पद्मावत देश भर में 4 राज्यों को छोड़कर रिलीज तो हो गयी है लेकिन अभी भी कट्टर पंथी फ़िल्म को लेकर देश भर में उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं। कल की तरह आज भी देह भर में हिंसा भरे हादसे हुए और कहीं आत्मदाह की कोशिश की गई।

यह सब तब हो रहा है जब फ़िल्म के समर्थन में अदालती आदेश आ चुका है। इस के बावजूद 4 राज्य आज भी फ़िल्म की रिलीज को लेकर डरे हुए हैं। करणी सेना ने फ़िल्म पद्मावत की रिलीज की राह में हिंसा के रोड़े अटकाने जारी रखे हैं। पिछले दिन से आज भी हिंसा का लेकर वही बवाल कटा।

कहीं सड़क और हाइवे जाम किये गए तो कहीं सिनेमाहाल में तोड़फोड़ की वारदातों को अंजाम दिया गया। राज्य सरकार भी अनमने मन से फ़िल्म से जुड़े लोगों का साथ दे रही हैं। लिहाजा प्रदर्शन करने वालों के हौसले बुलन्द हैं।

खबरों के मुताबिक पटना में विरोध के चलते फिल्म रिलीज नहीं की जा रही है। पटना के सिनेमाघरों मालिकों ने ऐलान करते हुए कहा कि वे इस फिल्म को रिलीज नहीं करेंगे। बताया जा रहा है कि बिहार के बाकी शहरों में फिल्म नहीं दिखाई जाएगी।

वहीं वाराणसी में सिनेमा हॉल के बाहर से पुलिस ने एक शख्स को आत्मदाह की कोशिश करते हुए पकड़ा है। सहारनपुर के देवबंद के गांव रनखण्डी में राजपूत समाज की महिलाएं भी पुरुषों के साथ नंगी तलवारें लेकर बाहर आ गईं।

इस दौरान उन्होंने संजय लीला भंसाली का पुतला दहन कर गांव के चौक पर प्रदर्शन किया।
बिजनौर में फिल्म पद्मावत को रिलीज करने के लिए मॉल के बाहर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। इसके बाद भी यहां फिल्म नहीं दिखाई जा रही है।

वहीं मेरठ में केवल सिंगल स्क्रीन सनेमाघरों में शो चल रहे हैं। उत्तराखंड के ऋषिकेश में पुलिस और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के बीच सिनेमा हॉल के बाहर झड़प हो गई है।

चार राज्यों को छोड़कर देशभर के सिनेमाघरों में गुरुवार को विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ को कड़ी सुरक्षा के बीच रिलीज कर दिया गया, लेकिन फिल्म का विरोध बदस्तूर जारी है। गुजरात, बिहार, राजस्थान के जयपुर में फिल्म न दिखाए जाने के बावजूदकरणी सेना ने जमकर उत्पात किया। गुजरात के आणंद जिले में हाइवे पर टायरों को जलाकर विरोध प्रदर्शन किया गया।

सुरक्षा के नाम पर कहीं भी गंभीर माहौल नहीं है। पद्मावत’ को लेकर करणी सेना का हल्लाबोल जारी है।
गुरुग्राम में करणी सेना के लोगों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए बस जला दी और सोहना रोड पर पत्थरबाजी भी की। मेरठ के पीवीएस मॉल में करणी सेना के लोगों ने इस फिल्म के विरोध में जमकर तोड़फोड़ की है।
राजस्थान के चित्तोड़गढ़ फोर्ट के पास पद्मावत फिल्म के विरोध में आग लगाई।

हालांकि किसी भी तरह की अप्रिय घटना होने से रोकने के लिए पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है और करणी सेना के नेताओं को गिरफ्तार करना शुरू कर दिया है।

कुल मिलाकर देश में फ़िल्म को लेकर जहां हिंसा का माहौल है वहीं फ़िल्म अब तक जितने लोगों ने देखी है उन्हें फ़िल्म में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं लगा। जाहिर है यह हल्ला सिर्फ सियासी और कट्टर मानिसकता से प्रेरित है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...