Print Friendly, PDF & Email

रांची, झारखंड
लातेहार जिला में स्थित बेतला नेशनल पार्क में 3 जुलाई से तीन महीने तक के लिए नो एंट्री लग जाएगी। इससे देश-विदेश से आने वाले पर्यटक पार्क घूमने का आनंद नहीं ले पाएंगे। तीन महीने बाद अक्टूबर से पर्यटकों के लिए पार्क घूमने के लिए खोला जाएगा।  बारिश के दिनों में जंगली जानवरों के प्रजनन का समय होता है। वन्यप्राणियों को किसी भी तरह की कोई असुविधा न हो इसके मद्देनजर प्रत्येक वर्ष बेतला नेशनल पार्क में वन प्रबंधन द्वारा जुलाई से नो इंट्री लगा दी जाती हैं। वन विभाग के अनुसार यहां बाघों की संख्या 55 हो गई थी, लेकिन अब बहुत कम दिखते हैं। पिछले साल फरवरी 2017 में बाघ दिखा था।

1974 में बेतला नेशनल पार्क (टाइगल रिजर्व) बनाया गया था। 1026 वर्ग किमी में फैले अभ्यारण्य में बाघ के अलावा हाथी, हिरण, चीतल, सांभर, बंदर, नीलगाय, तेंदुआ आदि पाए जाते हैं। बड़ी संख्या में पर्यटकों के आने से एक साल में एक करोड़ रुपये से अधिक राजस्व मिला था। पार्क के बगल में 16वीं शताब्दी का पलामू किला है। इसके बगल से कोयल और बूढ़ा नदी गुजरती है।
पोस्टल कोड 829207

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓