जो है
जैसा भी है
ग्राह्य नही किसी को…
दिखे नहीं सो बिके नहीं अब
बिके नहीं तो कौन पुछवैया…

चाल बदलकर, ढाल बदलकर
घड़ी-घड़ी में भेष बदलकर
चकमा देने वाले बाजीगर
जनता को क्या खूब लगे हैं
प्रजा-तंत्र का चौथा-पाया

ऐसे लोगों के साथ खड़ा है
इसीलिए उसने मन में ठानी
गुप-चुप सीखी नाट्य-कला
सहज-सरल-सीधी रेखा को

तज कर पकड़ी तिर्यक रेखा
जनता की भाषा भी सीखी
व्यंजना का कौशल सीखा
और देखते ही देखते
प्राइम-टाइम में जगह पा गया…

जो है
जैसा भी है
गूंगे-बहरे-अँधरे-सा
गुपचुप जीवन जीता
लाइम-लाईट में
किसी तरह भी नहीं आ सकता…

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Print Friendly, PDF & Email
यह भी पढ़ें :  सौ-सौ चीते (कविता)- अजय पाठक