Print Friendly, PDF & Email

जॉन अब्राहम की फिल्म ‘परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण’ जब से बननी शुरू हुई सिर्फ विवाद ही सुनने को मिल रहे हैं, पहले रिलीज को लेकर विवाद हुआ अब सुना है निर्माताओं के बीच भी रार छिड़ गयी है। हालत यह है कि फिल्म के सहनिर्माता एक्टर पर ब्लैकमेल का संगीन आरोप लगा रही है।

दरअसल फिल्म प्रड्यूस करने वाले जॉन अब्राहम के प्रॉडक्शन हाउस और फिल्म निर्माण में शामिल दूसरे प्रॉडक्शन हाउस क्रिअर्ज के बीच लड़ाई अब खुलकर सामने आ गई है। आलम यह है कि जॉन अब्राहम और क्रिअर्ज एंटरटेनमेंट की प्रेरणा अरोड़ा एक दूसरे पर खुलकर आरोप लगा रहे हैं।

बता दें कि प्रड्यूसर प्रेरणा ने एक बातचीत में कहा कि जॉन उन्हें ब्लैकमेल करने की कोशिश करते थे। बातचीत में प्रेरणा ने यह साफ नहीं किया कि जॉन क्या कहकर उन्हें ब्लैकमेल करते हैं। प्रेरणा अरोड़ा कहती हैं, ‘कोई भी आपको यह सलाह नहीं देगा कि आप आपनी ही फिल्म के खिलाफ क्लैश करें, लेकिन जॉन अब्राहम ने यह किया। जॉन हमेशा मुझे ब्लैकमेल करने की कोशिश करते रहे हैं। ‘परमाणु’ पहले 27 अप्रैल को आने वाली थी लेकिन बाद में उसे 2 मार्च को शिफ्ट किया गया था।’

उनके मुताबिक़ , ‘फिल्म की म्यूजिक कंपनी ज़ी स्टूडियो को भी फिल्म के म्यूजिक को लेकर भारी नुकसान हुआ है, क्योंकि जॉन अब्राहम ने एक भी गाना उन्हें नहीं दिया है। हमने फिल्म का म्यूजिक चार करोड़ में बेचा है। गानों के साथ कोई भी न्याय नहीं किया गया है क्योंकि जो भी गाने दिए गए हैं वह संतोषजनक नहीं है।’

वे आगे कहती हैं, ‘यह बात ट्रेलर पर भी लागू होती है। हमने खुद फिल्म का ट्रेलर चार बार रिजेक्ट किया है। इसके अलावा हम फिल्म के रिलीज़ डेट को भी लेकर लड़ते रहे हैं। रही पैसे की बात, जिसे लेकर जॉन बहुत झूठ बोल रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  चिकन सुक्का: लजीज टेस्ट है पक्का

हमने 30 करोड रुपए जॉन अब्राहम को दिए थे और बाकी 5 करोड रुपए देने थे, जिसमें से 3 करोड रुपए जॉन अब्राहम एंटरटेनमेंट को फिल्म के रिलीज़ होने के पहले देने थे, जिसमें फिल्म के ओवरसीज डिस्ट्रिब्यूशन की बात शामिल थी।’

फिल्म इंडस्ट्री के रूल बताते हुए प्रेरणा ने आगे कहा, ‘फिल्म इंडस्ट्री का एक कानून है कि आप फिल्म रिलीज होने के 15 दिन पहले डिलिवरी कर देते हैं। जॉन हमेशा पैसों की मांग करते थे। जो बचे हुए 2 करोड़ रूपये थे, वह उनकी फीस है। वह पहले ही हम से 10 करोड रुपए ले चुके हैं। उन्होंने हम से यह वादा किया था कि वह 2 करोड़ रुपए छोड़ देंगे, लेकिन अब उन्हें वह पैसा चाहिए। हम पहले ही 30 करोड़ रुपए दे चुके हैं, लेकिन दो या तीन करोड़ के लिए आप ऐसा अपनी फिल्म के साथ नहीं करते हैं। मुझे लगता है जॉन अब्राहम के लिए फिल्म से ज्यादा पैसा प्रिय है।’

जॉन की ओर से पब्लिश हुई पब्लिक नोटिस में कहा गया कि उन्होंने फिल्म के लिए सहयोगी प्रॉडक्शन हाउस के साथ सभी अग्रीमेंट कैंसल कर दिए हैं, लेकिन सहयोगी प्रॉडक्शन हाउस ने इसे गलत और अवैध बताया था। जॉन के प्रॉडक्शन हाउस ने एक नया बयान जारी करके कहा है कि उनका समझौता रद्द करना पूरी तरह सही है।

अब सच चाहे कुछ भी हो लेकिन पूरे मसले पर उनका ही नाम खराब हो रहा है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓