Print Friendly, PDF & Email

साहेबगंज, झारखण्ड
झारखण्ड सरकार के पत्थलगड़ी मामले से निपटने के तरीकों और नक्सल विरोधी अभियान पर सवाल उठाते हुए नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन कहा है कि पत्थलगड़ी के बढ़ते मामले सिर्फ रघुवर सरकार के जनविरोधी नीतियों का परिणाम है। हेमंत सोरेन ने साहेबगंज में पत्रकारों से कहा कि “हालांकि पत्थलगड़ी आदिवासियों में पहले भी होती रही है लेकिन वर्तमान समय में सरकार द्वारा आदिवासी के खिलाफ किए गए फैसलों से लोगों में आक्रोश बढ़ा है। पत्थलगड़ी पर सरकार गंभीर नहीं है । सरकार पत्थलगड़ी के कारणों पर मंथन करे क्यूंकि सरकार के कई फैसलों से झारखण्ड के आदिवासियों में आक्रोश है।“

वहीं हेमंत सोरेन ने सरकार के नक्सल विरोधी अभियान पर भी गंभीर सवाल उठाए हैं। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि “सरकार उग्रवादी के नाम पर आम लोगों को परेशान कर रही है। सुदूर इलाकों में मोर्टार दागे जा रहे हैं। बेगुनाह लोग मारे जा रहे हैं। सरकार नक्सल विरोधी अभियान के नाम पर फर्जी सरेंडर करा रही है। फर्जी एंकाउंटर कर रही है। सरकार का नक्सल विरोधी अभियान पूरी तरह से विफल है। पाकिस्तान की तरह ग्रमीण इलाकों में मोटार्र के प्रयोग से बेगुनाह मर रहे हैं। बूढ़ा पहाड़ पर जवानों की शहादत यह बतलाता है कि सरकार का सूचना तंत्र फेल है।”


पोस्टल कोड 816109

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓