(दुमका में बारिश के बावजूद सड़क पर डटे रहे बंद समर्थक)
Print Friendly, PDF & Email

भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के खिलाफ विपक्षी पार्टियों द्वारा बुलाये गए झारखण्ड बंद का व्यापक असर संथाल परगना में सुबह से ही देखने को मिला। दुमका, देवघर, जामताड़ा, गोड्डा, पाकुड़ और साहिबगंज में सुबह से ही बंद समर्थक सड़कों पर उतर आए हैं। बंद कराते कई दर्जन नेता जगह-जगह गिरफ्तार किए गए हैं।

देवघर
देवघर के मधुपुर में पटना-हावड़ा जनशताब्दी ट्रेन करीब दस मिनट रोकी गई। साहिबगंज के बरहड़वा रेलवे स्टेशन पर ट्रेन रोकी गई। बोकारो में भुवनेश्वर राजधानी को रेलवे स्टेशन पर रोककर प्रदर्शन किया गया।

मधुपुर
मधुपुर में बंद समर्थकों ने ट्रेन रोकी। पटना-हावड़ा जनशताब्दी ट्रेन को बंद समर्थकों ने करीब दस मिनट तक के लिए रोके रखा। इस दौरान विपक्षी पार्टी के नेता व कार्यकर्ता जमकर नाजेबाजी कर रहे थे। वहीं प्रशासन ने हस्तक्षेप कर कई समर्थकों को गिरफ्तार किया। इसके अलावा शहर के पालाजोरी इलाके में पालाजोरी बन्द असरदार रहा। दुकानें बंद रहने के कारण युवा सड़क पर क्रिकेट खेल रहे थे। पूरे जिले में बंद असरदार दिखाई दिया। जगह जगह विपक्षी पार्टी के नेता व कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया। देवघर के सारठ में बंद कराने के लिए पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और समर्थक भी उतरे।

सारठ
सारठ में देवघर-सारठ मुख्य पथ को बंद समर्थकों ने जाम कर दिया। इसके अलावा मधुपुर में पूर्व मंत्री हाजी हुसैन अंसारी की अगुवई में सड़क पर उतरे बन्द समर्थकों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मार्गोंमुंडा के धमनी रोड को भी जाम कर दिया गया।

शहर के टावर चौक पर देवघर-जसीडीह मुख्य पथ को जाम करने के लिए पूर्व मंत्री शशांक शेखर भोक्ता और अन्य सड़क पर उतरे। इस बन्द के कारण देवघर बस स्टैंड में यात्री और श्रद्धालुओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। उन्हे अपने गंतव्य तक जाने के लिए सवारी गाड़ी नहीं मिली।

दुमका
दुमका में सुबह 8.30 बजे तक माहौल शांतिपूर्ण रहा था। लेकिन सुबह से कोई दुकान नहीं खुली हुई थी। आवागमन को पूरी तरह से ठप कर दिया है। शहर में सभी चौक-चौराहों पर पुलिस बल तैनात है।
दुमका में आदिवासी महिलाओं ने पारंपरिक हथियारों के साथ जुलूस निकाला। इसके अलावा देवघर में सड़के खाली होने की वजह से बच्चे सड़क पर ही क्रिकेट खेलते दिखाई दिए।

दुमका में सिदो कान्हू चौक पर झामुमो विधायक नलिन सोरेन व अन्य बंद समर्थक ने सड़क जाम कर जोरदार प्रदर्शन किया। शिकारीपाड़ा में बारिश के बावजूद छाता लेकर बंद समर्थक सड़क पर उतरे व विरोध प्रदर्शन किया। दुमका शहर में बंद के समर्थन में नारेबाजी करते हुए सड़क पर बंद समर्थक निकलकर जोरदार प्रदर्शन किया। वहीं दुमका के काठीकुंड में बंद के दौरान जुलूस निकाल कर नारेबाजी भी की गई। इस दौरान आदिवासी महिलाओं ने पारंपरिक हथियारों के साथ काफी संख्या में जुलूस निकाला।
पोस्टल कोड 814101 816107 814116 814133

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓