Print Friendly, PDF & Email

देश के कई इलाके आज भी नक्सलवाद की चपेट में हैं। लिहाजा कहीं न कहीं नक्सली हमलों की खबर देखने सुनने को मिल ही जाती है। सरकार और प्रशासन इस मामले में हमेशा से ही लाचार दिखी है।

इसी कड़ी में आज छत्तीसगढ़ के सुकमा में सर्च ऑपरेशन में जुटे सीआरपीएफ के जवानों पर घात लगाकर किए गए माओवादियों के हमले में 9 जवान शहीद हो गए।

इस घातक हमले में 6 जवान घायल हुए हैं, जिनमें से कुछ की हालत नाजुक बताई जा रही है।

जवानों को पहले आईडी ब्लास्ट से निशाना बनाया गया, फिर फायरिंग की गई। रिपोर्ट्स के मुताबिक हमले में करीब 100 माओवादी शामिल थे।

नक्सल प्रभावित सुकमा के किस्तराम इलाके में दोपहर साढ़े 12 बजे सीआरपीएफ की 212वीं बटालियन पर यह हमला हुआ। जवान सर्च ऑपरेशन के लिए जा रहे थे, तभी घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने IED ब्लास्ट कर दिया।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सुकमा नक्सली हमले के शहीदों के परिजनों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने हमले में घायल जवानों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

राजनाथ ने कहा, ‘मैंने डीजी सीआरपीएफ से सुकमा हमले पर बात की है और उन्हें छत्तीसगढ़ जाने को कहा है।’

इस तरह की घटनाओं से यही साबित होता है कि आज भी सरकार और पुलिस सुरक्षा बल नक्सलियों के तंत्र को भेदने में फेल रही है।

जबकि हम ग्लोबल स्तर पर दुनिया जीतने का दावा करते हैं लेकिन आज भी देश के अंदरूनी हाल को नियंत्रण करने में विफल हैं।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓