Print Friendly, PDF & Email

कुछ वर्षों में अनेक ऐसी घटनाएं देखने को मिली जहाँ छोटी सी धार्मिक बहस या विवाद ने बड़ी हिंसा का रूप ले लिया और कानून-व्यवस्था बनाए रखने की गंभीर स्थिति पैदा हो गयी। गाय हत्या प्रकरण हो या फिर जिन्ना विवाद, सबने देखा कि राजनैतिक लाभ के लिए किए गए धार्मिक बहसों से अलग-अलग समुदायों के बीच खटास ही बढ़ी है। इसके बावजूद कुछ लोग ऐसे मामलों को हवा देते रहते हैं।

गुडगाँव में भी यही हो रहा है जहाँ नमाज को लेकर ऐसी बातें हो रही है जो समाज में तल्खी पैदा कर सकती हैं। बहरहाल खुले में नमाज के विरोध में मुख्यमंत्री के बयान से हिन्दुत्ववादी संगठनों को बल मिल गया है और अब उनकी मांगें और बढ़ गई हैं। हिंदू संगठन चाहते हैं कि नमाज के लिए कुछ जगहें तय की जाएं, जो मंदिरों से कम से कम 2 किलोमीटर के दायरे से बाहर हों।

आपको बता दें कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री ने बयान दिया था कि सार्वजनिक स्थानों में नमाज अदा नहीं की जानी चाहिए जिसके बाद हिन्दू संगठनों की मांग है कि प्रशासन को नमाज के लिए तय खुली जगहों की संख्या कम कर पांच तक सीमित कर देनी चाहिए।

अब इन संगठनों की अगुवाई कर रहे महावीर भारद्वाज ने कहा कि ‘प्रशासन को नमाज के लिए तय खुली जगहों की संख्या को कम कर पांच तक सीमित कर देना चाहिए और ये सभी जगहें मन्दिरों से कम से कम दो किमी के दायरे में नहीं होनी चाहिए।’

बजरंग दल, हिन्दू जागरण मंच, विश्न हिन्दू परिषद, स्वदेशी जागरण मंच, अखिल भारतीय हिन्दू क्रांति दल, संस्कृति गौरव समिति और संस्कार भारती जैसे कई हिन्दू संगठन, ‘संयुक्त हिन्दू संघर्ष समिति’ के बैनर के तहत एक हुए हैं। इन संगठनों ने नमाज अदा करने वाले लोगों की संख्या बढ़ने को ‘अवैध प्रवासियों की बढ़त’ का रूप दिया है। जब ये समूह पिछली जुम्मे की नमाज के दौरान इन इलाकों का दौरा कर रहे थे तब ‘बांगलादेशी वापस जाओ’ के नारे लगाए गए थे।

इस मुहिम और वाजीराबाद गांव के पूर्व प्रमुख सुबे सिंह बोहरा कहते है कि प्रशासन को वेंडरों की नागरिकता की जांच भी करनी चाहिए क्योंकि ऐसे कई मामले सामने आए हैं जब नमाज में कुछ असमाजिक तत्वों द्वारा खलल पैदा की गई। इनका यह भी कहना है कि प्रशासन को अंतिम फैसले में इनकी मंजूरी लेनी चाहिए।

इसके अलावा उन्होंने नमाज अदा करने वाले लोगों की नागरिकता की जांच करने की भी मांग यह कहते हुए की है कि इन लोगों में कुछ बांगलादेशी नागरिक भी शामिल हैं।अप्रैल में 6 लोगों में से चार को इसी के चलते सेक्टर 43 से गिरफ्तार भी किया गया था। इसके बाद से लगातार इस तरह की घटनाओं में बढ़ोतरी शुरू हुई है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓