Print Friendly, PDF & Email

नई दिल्ली
हाड़ी राज्यों जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बर्फबारी होने से मौसम का मिजाज बदलना शुरू हो गया है, तापमान गिर रही है और लोगों का अब ठंढ महसूस होने लगा है। जम्मू-कश्मीर में जहां पहाड़ी इलाकों में बर्फ गिरी वहीं मैदानी इलाकों में भारी बारिश हुई है। गुलमर्ग और पहलगाम पहाड़ी स्टेशनों में पर्यटक बर्फबारी के चलते बेहद खुश थे। उत्तराखंड में केदारनाथ मंदिर बर्फ की चादर में छिप गया है।  हिमाचल के किन्नौर जिले के हिल स्टेशन कल्पा और चितकुल व लाहौल एवं स्पीति में इस सीजन की सबसे अधिक बर्फ पड़ी।

जम्मू-कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में इस साल सर्दियों की पहली बर्फबारी शनिवार को हुई। हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले के उदयपुर क्षेत्र में भी शनिवार को बर्फ गिरी। यहां कुल्लू जिले में सोलांग घाटी में भी बर्फबारी हुई। इसके अलावा शिमला और मनाली में बारिश हुई।

इस बर्फबारी से तापमान में गिरावट आई है और ठंड में बढ़ोतरी हुई है। कश्मीर घाटी के सभी मौसम केंद्रों ने शुक्रवार को इस अवधि के सामान्य तापमान के मुकाबले 10 डिग्री तक की गिरावट दर्ज की थी।

हिमाचल में मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों तक इसी तरह के मौसम का अनुमान लगाया है। किन्नौर जिले के हिल स्टेशन कल्पा और चितकुल व लाहौल एवं स्पीति में इस सीजन की सबसे अधिक बर्फ पड़ी।

उत्तराखंड में केदारनाथ मंदिर बर्फ की चादर में छिप गया है।

मौसम विभाग के अनुसार, श्रीनगर में न्यूनतम तापमान 1.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ जबकि पहलगाम में 0.4 डिग्री सेल्सियस और गुलमर्ग में शून्य से तीन डिग्री नीचे दर्ज हुआ।

लेह में 0.4 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया जबकि कारगिल शनिवार को राज्य का सबसे ठंडा जगह रहा, जहां शून्य से 4.8 डिग्री नीचे तापमान दर्ज हुआ। जम्मू-कश्मीर बर्फबारी के कारण मुगल रोड से लगे पीर की गली से 120 से अधिक लोगों को बचाया गया है जिसमें से अधिकांश ट्रक चालक हैं।

पुलिस उपाधीक्षक (यातायात) मोहम्मद रफीक ने शनिवार को ‘पीटीआई- भाषा’ को बताया कि एक बुजुर्ग महिला सहित बचाये गये कुछ लोग बीमार थे और उन्हें अस्तपाल ले जाया गया। हालांकि इनमें से कोई भी गंभीर नहीं है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓