Print Friendly, PDF & Email



कल तक जिस गाँव में श्मशान सा सन्नाटा छाया हुआ था आज वहाँ कुंभ मेले जैसी गहमागहमी है। लोगों का हुजूम समुद्र की लहरों जैसा उछल रहा है। क्यों न हो, डंबर समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव डंबर प्रताप जो अपने लाव लश्कर के साथ आए हुए हैं।

उनकी शान का क्या वर्णन करूँ? अलग ही है। खानदानी रईस हैं। 50 गाँवों की जमींदारी थी। राजा साहब कहलाते थे मगर गरीब जनता की सेवा का चस्का ऐसा लगा कि आज अगर कोई राजा कह दे तो शायद उसकी जुबान ही खिंचवा दें। उनका काम करने का तरीका भी आम नेताओं से बिल्कुल अलग है। भाषण तो देते ही हैं, गरीब जनता के ऊपर कविताएँ भी लिखते हैं और चित्रकारी भी करते हैं। गरीबों से इतना अपनापन मानते
हैं कि सिर्फ भेड़ का सेवन करते हैं। उनकी नजर में गाय-भैंस तो अमीरों के चोंचले हैं। लोग तो उनकी तारीफ में यहाँ तक कहते हैं कि अगर कोई कलाकार गाय का चित्र भी बना दे तो वे उसे तुंरत संप्रदायिकता करार कर देंगे।

राजसी परिवार का कोई दंभ नहीं तभी तो महल के ऐशो-आराम छोड़कर आम सांसदों की तरह नई दिल्ली के सरकारी बंगले में रहते हैं। सुप्रीम कोर्ट के शहरी जजों का
बस चले तो गरीबों के इस मसीहा को पिछले पाँच सालों से उस बंगले का किराया व बिल आदि न देने के इल्जाम में बेघर ही कर दें। मगर राजा साहब जानते हैं कि इस
देश की भूखी, नंगी, बेघर और अनपढ़ जनता सब देखती और समझती है। वह अपने राजा साहब के साथ ऐसा अन्याय हरगिज न होने देगी।

डंबर प्रताप जी का हेलिकॉप्टर अभी-अभी नत्थू के खेत में उतरा है। वह बेचारा दूर एक कोने में सहमा सा खड़ा काले कपड़ों वाले बंदूकधारियों के दस्ते को देख रहा है।

यह भी पढ़ें :  क्यों ईशा गुप्ता को नफरत है इस अभिनेता से

कल रात इसी दस्ते की निगरानी में पुलिसवालों ने उसके खेत की सारी अरहर काट डाली थी ताकि राजा साहब का हेलिकॉप्टर आराम से उतर सके। वह बेचारा सोच रहा है कि अगर उसकी पहुँच राजा साहब के किसी कारिंदे तक होती तो शायद महाजन कर्ज अदायगी को अगली फसल तक टाल देता, वरना तो सल्फास की गोली उसका आखिरी सहारा है।

लाउड स्पीकर की आवाज से उसका ध्यान भंग हुआ। राजा साहब मंच पर आ गए थे। मंच क्या पूरा किला ही लग रहा था। काले कपड़े वाले बंदूकधारी हर तरफ मोर्चा लेकर खड़े हुए थे। राजा साहब पिछले हफ्ते हुई काले प्रधान की हत्या का जिक्र कर रहे थे। काले हमारे गाँव का प्रधान था। अव्वल दर्जे का जालिम। गरीबों को उसके
खेतों में बेगार तो करनी ही पड़ती थी, उनकी बहू बेटियाँ भी सुरक्षित नहीं थी। थाने में भी गरीबों की कोई सुनवाई न थी इसलिए लोग खून का घूँट पीकर रह जाते थे। मगर जब उस हैत की दस साल की बेटी के साथ पैशाचिक कृत्य की खबर मिली तो सारा गाँव ही गुस्से से भर गया। सभी पागल हुए घूम रहे थे मगर किसी की भी इतनी
हिम्मत न थी कि थाने में जाकर रपट भी लिखाए। सबको पता था कि जो भी जाएगा

थानेदार उसी को मार-कूट कर अंदर कर देगा। सुबह पता लगा कि उसी रात काले प्रधान का काम तमाम हो गया। गाँव के मर्द तो यह खबर मिलते ही भाग खड़े हुए, पुलिस का कहर टूटा औरतों और बच्चों पर। कई बच्चे तो अभी भी हल्दी-चूना लपेटे खाट पर पड़े हैं।

यह भी पढ़ें :  चीनी का चस्का जान ले लेगा आपकी

राजा साहब पुलिस के निकम्मेपन का जिक्र कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गरीब लोग अपनी जान हथेली पर लिए हुए घूम रहे हैं। वे बोले कि पूरे प्रदेश में गुंडों-माफियाओं का राज हो गया है तथा कानून व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो गई है।

काले प्रधान जैसे सत्पुरुषों की जान ही सुरक्षित नहीं है तो आम लोगों का तो कहना ही क्या। रोजाना ही डकैती, हत्या और बलात्कार हो रहे हैं। उन्होंने नई
सरकार के कार्यकाल में कानून व्यवस्था की स्थिति ध्वस्त होने का आरोप लगाते हुए अपनी हत्या की आशंका भी जताई।

मंच से उतरने के बाद राजा साहब ने पत्रकारों से बात की और वहाँ भी अपनी हत्या की आशंका को दुहराया। पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने साफ शब्दों में
कहा कि यह सरकार कभी भी उनकी हत्या करवा सकती है। उन्होंने काले प्रधान हत्याकांड को एक राजनीतिक साजिश करार दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि विजेता
समाज पार्टी की सरकार के दौरान उनकी पार्टी कार्यकर्ताओं की सरकारी सुरक्षावापस ली जा रही है। उनके लोगों की चुन-चुनकर हत्या हो रही है। उन्होंने कहा कि विजेता समाज पार्टी की सरकार सिर्फ शहरों पर ध्यान दे रही है और गाँवों के गरीब मजदूर महँगाई, बेरोजगारी और असुरक्षा के बीच पिस रहे हैं। इस सरकार का ग्रामीण जनता से कोई सरोकार नहीं है।

चार दिन के बाद जब राजा साहब एक निकटवर्ती गाँव में एक और छुटभय्ये नेता के दशमे में गए तो उनके काफिले पर गंभीर हमला हुआ। उनके सभी बंदूकधारियों का काम तमाम हो गया। हमलावर उनके गोली-बंदूक भी अपने साथ ले गए। पता लगा कि राजा साहब
मृतक नेता के परिवार के भरण-पोषण के लिए पार्टी फंड से कई लाख रुपये भी लाए थे। हमलावर वह सारा रोकड़ा भी अपने साथ ही ले गए। देवी माँ की असीम कृपा थी कि राजा साहब का बाल भी बाँका न हुआ।

इस बात को कई महीने गुजर गए हैं। नेताओं पर बढ़ते हमलों का कारण पता करने के लिए जाँच समिति भी बैठ चुकी है। पुलिस आज भी गाँव-गाँव जाकर लोगों को डरा-धमकारही है मगर आज तक किसी को यह पता नहीं चला कि राजा साहब के कारकुनों ने विजेता
समाज पार्टी की सरकार के ऊपर राजनैतिक लाभ लेने के लिए ये सारी घटनाएँ कराई थी।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓