Print Friendly, PDF & Email



जिन्दा को मुर्दा और मुर्दा को जिन्दा करने के सरकारी कागजों में देर नहीं लगती, अब देश में प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी हो या प्रदेश में अदित्य नाथ योगी ये दोनों मिल कर इण्डिया से भृष्टाचार मिटाने और अधिकारियों के जनता के लिये कार्य करने की बातें कर ले पर सरकारी मशीनरी पर इसका कोई असर नही पड़ने वाला।

सरकारी मशीन की लापरवाही का एक नजारा हाथरस की सादाबाद तहसील में देखने को मिला यहंा एक वृद्ध खुद को जिन्दा मानने की गुहार करता नजर आया।

सादाबाद तहसील में खड़ा हुये ये वृद्ध उपजिलाधिकारी से खुद को जिन्दा करने की गुहार लगा रहा है, तहसील के गांव मढ़ा भोज का रहने वाला ओमप्रकाश पुत्र रघुवीर सिंह को सरकारी अभिलेखों में मृत घोषित कर दिया गया है।

योगी सरकार द्वारा किसानों के लिये की गयी एक लाख की माफी का उसे फायदा नहीं मिला क्यों कि सरकार मृतक का कर्जा तो माफ नहीं करेगी, तब से लेकर अब तक ओमप्रकाश सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा लगा कर थक गया है, कोई तो उसकी फरियाद सुने और उसे जिन्दा कर दें ताकि उसे योगी सरकार की कर्ज माफी योजना का लाभ मिल सके।

तहसील में अपनी शिकायत लेकर आये ओमप्रकश का कहना है कि गा्रम प्रधाना और लेखपाल ने मिल कर अपने निजी फायदे ंके लिये उसे सरकारी कागजों में मृत घोषित कर दिया है।

वो उपजिलाधिकारी से गुहार लगा रहा है कि उसे कागजों में जिन्दा कर दें ताकि वो भी योगी सरकार की कर्ज माफी योजना का लाभ ले सके।

अब देखना यह होगा कि सरकारी अफसर इसे अपने कागजों में कब जिन्दा कर पायेगें 24 मार्च को ओमप्रकाश ने तहसीलदार सादाबाद को अर्जी दे कर सरकारी कागजों में जिन्दगी मांगी थ।

यह भी पढ़ें :  मूर्तियों पर दूध चढ़ा तो मंदिर प्रशासन पर चलेगा हंटर

पर उसकी इस अर्जी पर अभी तक कोई सुनाबाई नहीं हो सकी अब उसने उपजिलाधिकारी से सरकारी अभिलेखों में जिन्दगी मांगी है। उपजिलाधिकारी जय प्रकाश का कहना है कि उनके पास शिकायत आई है जांच कर उचित कार्यवाही की जायेगी।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

SHARE
Previous articleशर्मनाक- किसान के घर चोरी
Next articleस्कूलों की मनमानी पर कैसे लगे रोक
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं। रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है। नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं। सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है। हिंद वॉच मीडिया समूह जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है। भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है।