Print Friendly, PDF & Email



फिल्म का नाम : सोनू के टीटू की स्वीटी
हिंद वॉच मीडिया रेटिंग : 3.5 / 05 साढ़े तीन
बैनर : टी सीरिज, इंडिया शूट्स
सेंसर सर्टिफिकेट : U/A
जॉनर : रोमांटिक कॉमेडी (रॉम-कॉम)     
अवधि : 2 घंटा, 20 मिनट
निर्माता : भूषण कुमार, कृष्ण कुमार, अंकुर गर्ग और लव रंजन  
निर्देशक : लव रंजन
लेखक : राहुल मोदी, लव रंजन
कलाकार : कार्तिक आर्यन, सनी सिंह, नुसरत भरूचा, आलोकनाथ, पवन चोपड़ा, वीरेन्द्र सक्सेना, और दीपिका अमिन  
सिनेमेटोग्राफर : सुधीर के। चौधरी
एडिटर : अकिव अली
संगीत : हितेश सोनिक                                                     

“प्यार का पंचनामा” और “प्यार का पंचनामा-2” में निर्देशक लव रंजन ने पहले ही इस विषय में बहुत अनुसन्धान कर लिया है। अपने कम्फर्ट जोन में निर्देशक ईमानदारी से काम ले तो वह दर्शकों को कभी निराश नहीं करता। आजकल धीरे-धीरे यह एक प्रोडक्ट और फिर फ्रेंचाइजी में बदलने लगता है। लव रंजन ने इस बार फिर से बाजी मार ली है। लव रंजन की सबसे खास बात यह है कि उनकी फिल्म के चरित्रों का चित्रण एकदम प्रासंगिक है। कहानी के केंद्र में आजकल का प्यार और दोस्ती है और कहते हैं कि दोस्ती और लड़की में जीत हमेशा लड़की की होती है। इसका प्लॉट कॉमेडी वाला है। समय के द्वंद्व और कथानक के ट्विस्ट से क्लाइमेक्स तक उत्सुकता बनी रहती है। इस फिल्म के चुलबुले संवाद दर्शकों को जकड़ लेते हैं।

टीटू (सनी सिंह) एक ऐसा लड़का है, जो बार-बार प्यार करता है क्योंकि हर बार लड़की उसे धोखा दे जाती है। ऐसे में उसका दोस्त सोनू (कार्तिक आर्यन) उसे लड़की के फंदे से बचाता है। वह अपनी फजीहत और नहीं करवाना चाहता और अरेंज मैरिज के लिए तैयार हो जाता है। उससे शादी के लिए स्वीटी (नुसरत भरूचा) का रिश्ता आता है। लड़की सबको पसंद आती है, लेकिन सोनू को लगता है कि दाल में कुछ काला है। उसका सवाल घोर यथार्थवादी है- यार इतना परफेक्ट कोई होता है क्या? वह टीटू और स्वीटी की शादी किसी भी कीमत पर नहीं होने देना चाहता है। स्वीटी उसकी चाल का मुंहतोड़ जवाब देती है। सोनू और स्वीटी के टशन के बीच टीटू का सैंडविच बहुत जायकेदार है। कहानी में आगे क्या होता है इसके लिए बॉक्स ऑफिस को आपका इंतजार रहेगा।

फिल्म के तीनों मुख्य किरदारों का अभिनय सराहनीय है, लोगों को बहुत पसंद आयेगी। अलोकनाथ और वीरेंद्र सक्सेना दोनों ही मजे हुए कलाकार हैं, इसमें इनके किरदार आपको याद रह जायेंगे। बाकी सभी कलाकारों ने अच्छा काम किया है।

फिल्म का संगीत मजेदार है। दिल चोरी साड्डा हो गया… मैं नशे में टल्ली हो गया…, तेरा यार हूँ मैं, ओ कुड़ी कौन नच दी और लक मेरा हिट बलिये गाने अच्छे बने हैं।

“सोनू के टीटू की स्वीटी” का विषय अलग तो नहीं, लेकिन इसका प्रेजेंटेशन नया है और यही किसी भी फिल्म को पहचान दिलाता है।

इस फिल्म के ऑफिसियल ट्रेलर को हिंद वॉच पर देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें :

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...



SHARE
Previous articleगुजिया खाए व बनाए बिना कैसे होली
Next articleबदलते मौसम में सेहत का बचाव जरूरी
सिनेमा में गहरी रूचि और समझ रखने वाले विनोद सिंह एक स्वतंत्र पत्रकार हैं। मायानगरी मुंबई में रहकर वे हिंद वॉच मीडिया के लिए नियमित तौर पर सिनेमा से जुड़े विषयों पर लिखते रहे हैं। उनकी फिल्म समीक्षा पाठकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। विनोद सिंह हिंद वॉच मीडिया संपादक मंडल के सदस्य होने के साथ-साथ सिनेमा सेक्शन के उप-संपादक भी हैं। सरल भाषा और सपाट बयानी उनकी लेखनी को विशिष्ट पहचान देती है। हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रहा है। साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करता है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|