Print Friendly, PDF & Email



मास्को
र्जेंटीना के स्टार खिलाड़ी लियोनेल मेस्सी से फीफा विश्व कप के नॉकआउट में पहला गोल देखने के लिए दुनियाभर के फुटबॉल प्रेमियों की निगाहें लगी होंगी। मेस्सी ने पिछले रियो फीफा विश्व कप में चार गोल कर ‘गोल्डन बूट’ का टाइटल भले ही जीता है, लेकिन ये सभी गोल ग्रुप स्टेज मैचों में हुए थे। मेस्सी से शनिवार को फ्रांस के साथ खेले जाने वाले प्री क्वार्टर फाइनल मैच में पूरी शक्ति झोंक दिए जाने की उम्मीदें लगाई जा रही हैं। अर्जेंटीना और फ्रांस के बीच 1978 के बाद पहला बड़ा मुकाबला है।
कजान में खेले जाने वाले इस मैच से पूर्व मेस्सी के लिए इतना दबाव बना दिया गया है कि अर्जेंटीना टीम के होटल के बाहर मेस्सी का एक बहुत बड़ा कला चित्र लगा दिया गया है और टीम के खिलाड़ी मेस्सी से गोल की कामना कर रहे हैं। मेसी अभी तक 127 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 65 गोल कर चुके हैं। उनका नाम दुनिया के सबसे महंगे तीन फुटबॉल खिलाड़ियों में आता है। इस विश्व कप में मेस्सी का प्रदर्शन उतना उभर कर नहीं आया है, जितना की फैंस को उनसे उम्मीद थी। मेस्सी मात्र एक गोल नाइजेरिया के खिलाफ ग्रुप के अंतिम मैच में कर सके हैं।
फ्रांस के गोलकीपर और कप्तान ह्यूगो लॉरिस ने कहा है कि उनके खिलाड़ियों को खेल के पहले मिनट से ही उच्च प्रदर्शन करना होगा, जिसके लिए वह ‘करो या मरो’ की नीति लेकर चल रहे हैं। उनका कहना है कि उनकी पंक्ति में एंटोनी ग्रिज़मान और मबाप्पे पर भरोसा है, यह जोड़ी चल निकली तो उनकी जीत पक्की है।
नॉकआउट स्टेज का दूसरा मैच ब्राजील और मेक्सिको के बीच होना है। निश्चय ही ब्राजील इस मैच में कोई कमी नहीं छोड़ेगा, लेकिन मेक्सिको की टीम भी पूरे टूर्नामेंट में बेहतर प्रदर्शन करती आ रही है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...