Print Friendly, PDF & Email

सासनी। दबंगों ने जब जमीन पर कब्जा किया तो सुरेश ने शासन से लेकर प्रशासन तक का दरवाजा खटखटा दिया मगर कोई राहत नहीं मिली तो वह आमरण अनशन करते हुए तहसील में भूख हडताल पर बैठ गया।

शुक्रवार को तहसील परिसर में भूख हडताल पर बैठे तमन्नागढी निवासी सुरेश पुत्र ज्वालाप्रसाद ने बताया कि उसने सन् 1998 में सासनी के केशवदेव पुत्र बुद्धसैन से 19 हजार में जमीन खरीदी थी।

जिसका दाखिला खारज भी हो गया। मगर कब्जा नहीं लिया। वह हाथरस में ही रहने लगा। इसी बीच बनगढ के कुछ दबंगों ने उसकी जमनी पर कब्जा कर लिया। विरोध किया तो मारपीट की नौबत आ गई। जिसकी शिकायत उसने पुलिस तथा राजस्व अधिकारियों से की मगर कोई राहत नहीं मिली।

कब्जा लेने का प्रयास निरंतर चलता रहा। जब कोई रास्ता नहीं सूझा तो सुरेश अपनी पत्नी सहित सासनी तहसील पहुंच गया और भूख हडताल पर बैठ गया।

सुरेश के भूख हडताल पर बैठते ही प्रशासनिक अधिकारियों को हाथ पावं फूल गये। और उसे हडताल से उठाने का प्रयास करने लगे। मगर समाचार लिखे जाने तक सुरेश भूख हडताल पर बैठा था।

तहसीलदार ठाकुर प्रसाद ने बताया कि सुरेश ने जमीन ली थी। जिसमें पट्टेदारों से कब्जा भी दिला दिया था।

मगर दूसरे पट्टेदारों ने कब्जा कर लिया। आज इसकी तारीख थी। यह यहां आया है, इसकी समस्या का नियमानुसार कार्रवाई कर निस्तारण किया जाएगा।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

यह भी पढ़ें :  शमशान भूमि पर दबंग नेता का कब्जा
SHARE
Previous articleउन्नाव काण्ड को लेकर भाजपा पर कांग्रेस का तंज
Next articleएपिक टीवी 18 अप्रैल को मनाएगा ‘विश्व धरोहर दिवस’
नीरज चक्रपाणी उत्तर प्रदेश के हाथरस में सक्रीय पत्रकारिता कर रहे हैं| रिपोर्टिंग का लम्बा अनुभव रखने वाले नीरज ने अनेक प्रतिष्ठित मीडिया सस्थानों के साथ काम किया है| नीरज हिंद वॉच मीडिया के लिए हाथरस से नियमित तौर पर स्वतंत्र एवं स्वैच्छिक रूप से रिपोर्टिंग करते रहे हैं| सटीक, निर्भीक और प्रमाणिक जमीनी पत्रकारिता उनकी विशेषता है| हिंद वॉच मीडिया जमीनी सरोकारों से जुड़ी जनपक्षधरता की पत्रकारिता कर रही है| साप्ताहिक अखबार, न्यूज़ पोर्टल, वेब चैनल और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से जमीनी और वास्तविक ख़बरों को निष्पक्षता और निडरता के साथ अपने पाठकों तक पहुंचाने के लिए हिंद वॉच मीडिया पूरी समर्पण से काम करती है| भारत और विदेशों में यह वेब पोर्टल पढ़ा जा रहा है|