Print Friendly, PDF & Email



सासनी। विद्युत विभाग  को सरकार द्वारा प्राईवेट कंपनियों के देने के विरोध में विद्युत कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल पर बैठ गये।

हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों ने चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगों को नहीं माना या तो वे आंदोलन के लिए बांध्य होंगे।

हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों का अरोप था। कि जिन बडे शहरों में बकाया बिलों की बसूली को ज्यादा से ज्यादा वसूला जा रहा है। उन शहरांे को सरकार ने प्राईवेट कंपनियों को सौंप दिया है।

जिसे लेकर प्राईवेट कंपनियों ने संविदा पर लगे कर्मचारियों को निकालकर अपनी मर्जी से भर्ती शुरू कर दी है।

इसी के चलते सभी कर्मचारी हड़ताल पर चले गये है। यह हडताल 9 अप्रैल तक रहेगी। कर्मचारियेां ने बताया कि मेरठ, गोरखपुर, लखनऊ, मुरादावाद, वाराणसी, आदि को निजीकरण कर दिया गया है।

यदि सरकार उनकी मांगों को पूरा नहीं करती तो उच्चाधिकारियों के निर्देशन पर अग्रिम रणनीति बनाई जाएगी।

इस दौरान नगेन्द्र सिंह ललित पचैरी, एसपी हंस, मुकेश गौतम, बृजेश सेंगर, विनोद कुमार, जय प्रकाश पचैरी, अरविंद कुमार, जय प्रकाश, यश्ज्ञवीर सिंह, रामचंद्र, ओमवीर सिंह, पूरन शर्मा विनोद कुमार, आदि मौजूद थे।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

यह भी पढ़ें :  फिजिशियन्स क्यों कर रहे हैं सबसे ज्यादा आत्महत्या