Print Friendly, PDF & Email


श्रीदेवी की जब मौत हुई तब से कुछ देर पहले की तस्वीरों को देखेंगे तो जान जाएंगे कि वे कितनी हेल्दी थीं। और अनिल कपूर के साथ उनका डांस वाला आखिरी वीडियो देखकर भी कोई नहीं कह सकता है उनकी मौत दिल के आघात से हो सकती गई।
श्रीदेवी सिर्फ 54 साल की थीं। अब जब उनकी मौत हो चुकी है और पोस्टमार्टम रिपोर्ट दावा कर रही है कि उनकी मौत का कारण कार्डियक अरेस्ट था तो यकीन नहीं होता कि इतनी उम्र और फिट फिगर में उन्हें दिल का खतरा हो सकता है। लेकिन ऐसा हुआ।
वे फिट थीं और जब-तब अपने वर्कआउट की तस्वीरें पोस्ट किया करती थीं। डांसर तो वह पूरी जिंदगी रहीं। शुरुआती रिपोर्ट में उनकी मौत की वजह कार्डियक अरेस्ट बताई गई, बाद में फोरेंसिक रिपोर्ट में कहा गया कि बाथटब में डूबने से उनकी मौत हुई, लेकिन शुरुआती चर्चाओं ने हर किसी को सोचने पर मजबूर कर दिया, क्या कोई शख्स अपनी सेहत के सबसे अच्छे दौर में भी दिल की बीमारी का शिकार हो सकता है?
एक्सपर्ट कहते हैं कि सेहतमंद दिख रहे किसी शख्स की भी धमनियों (आर्टिरीज) में ब्लॉकेज हो सकता है। यह देख कर सदमा लगा कि ऐसी शख्सियत जो ऐसा सेहतमंद जीवन जी रही थीं, अपनी डाइट और फिटनेसका बहुत गंभीरता से खयाल रखती थीं, उनका इस तरह असमय निधन हो गया।
लेकिन जब किसी की अचानक कार्डियक अरेस्ट से मौत होती है, तो इसका कारण हार्ट अटैक या किसी कारण से हार्ट की रफ्तार बिगड़ना हो सकता है। 10 में से 8 बार कार्डियक अरेस्ट का कारण हार्ट अटैक होता है।
कार्डियक अरेस्ट शब्द का इस्तेमाल बड़ी अस्पष्टता से किया जाता है. बहुत कम स्थितियों में ऐसा भी हो सकता है कि दिमाग में अचानक रक्तस्राव से कार्डियक अरेस्ट हो जाए।
गौरतलब है कि भारतीयों में पहले से ही कोरोनरी आर्टरी बीमारियों का शिकार होने की प्रवृत्ति होती है. यहां तक कि अगरहम नियमित रूप से एक्सरसाइज करते हों और बहुत अच्छे हाल में, तो भी नहीं बताया जा सकता कि दिल के अंदर क्या चल रहा है।
यह जरूरी बात जरूर याद रखनी चाहिए कि किसी शख्स को कार्डियक समस्याओं की कोई हिस्ट्री नहीं हो,तो भी कार्डियक अरेस्ट हो सकता है. आर्टिरीज ब्लॉकेज 80-90 फीसद तक पहुंच जाने के बाद ही इसकापता चल पाता है। एक चौथाई लोग काफी ज्यादा और गंभीर ब्लॉकेज हो जाने के बाद भी किसी तरह की परेशानी नहीं महसूस करते।
अगर बात लक्षणों की करें तो कई लक्षण होते हैं, जिन पर चेत जाना चाहिए, लेकिन लोग इनकी अनदेखी कर देते हैं। इनमें थकान, चक्कर आना, छोटी-छोटी सांसें लेना,कमजोरी, तेज धड़कन और उलटी आना शामिल हैं। लेकिन उनका यह भी कहना है कि कार्डियक अरेस्ट बिना किसी चेतावनी के भी हो सकता है। ऐसी तकरीबन आधीमौतों में कोई भी जाना-पहचाना कारण मौत का कारण बन सकता है।
श्रीदेवी हेल्दी थीं तब भी उन्हें जानलेवा दिल का अटैक अपने साथ ले गया, ऐसे में आप भी सचेत रहिये। और स्वस्थ भी।
इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓
loading...