Print Friendly, PDF & Email

धर्म हर देश में सिर्फ साम्प्रदायिक हिंसा और विवाद की वजह बन रहा है। कहीं पर यह आतंकवाद को बढ़ाने का काम करता है तो कहीं पर यह महिलाओं को तीन तलाक और सती जैसी कुरीतियों में ढकेल देता है।

मुस्लिम महिलाओं को पहनना और ओढ़ना इतना मुश्किल होता है कि मुस्लिम देशों में जहां उनको पूरा शरीर ढक कर रखने और बुरका व हिजाब पहनने पर मजबूर किया जाता है वहीं कुछ देश ऐसे भी हैं जो उन्हें बुर्का पहनने को लेकर न सिर्फ मना करते हैं बल्कि जुर्माना भी लगाने से पीछे नहीं रहते।

आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कौन सा देश है जो बुरका पहनने ओर जुर्माना लगाता है तो हैम आपको बता देते हैं।

दरअसल डेनमार्क की सरकार देश में महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगाने की तैयारी कर रही है। सरकार सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं के ऐसे पहनावे पर रोक लगाएगी, जिससे चेहरा पूरी तरह ढक जाता हो।

रिपोर्ट के मुताबिक सरकार का कहना है कि हम सार्वजनिक स्थानों पर बुर्का या हिजाब पहनने पर रोक लगाने का प्रस्ताव लाने पर विचार कर रहे हैं। पब्लिक प्लेस पर ऐसा करने वालों को जुर्माना देना होगा।

प्रस्ताव के मुताबिक नियम का उल्लंघन करने पर 120 पाउंड यानी करीब 9,545 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। यदि एक बार से अधिक ऐसा करते कोई पाया जाता है तो उस पर यह फाइन 1 लाख रुपये तक हो सकता है।

डेनमार्क के जस्टिस मिनिस्टर सोरेन पापे पाउसेन ने कहा, ‘सार्वजनिक स्थान पर लोगों से मुलाकात करते हुए चेहरा ढंक कर रखना डेनिश समाज के मूल्यों के विपरीत है।’

उन्होंने कहा, ‘इस बैन के जरिए यह साबित करना चाहते हैं कि हम ऐसा समाज हैं, जो एक-दूसरे भरोसा करता है और मुलाकात के वक्त फेस-टु-फेस बात करता है।’

सरकार के इस प्रस्ताव को सत्ताधारी गठबंधन में शामिल तीनों दलों का समर्थन हासिल है। हालांकि डेनमार्क में मुस्लिम आबादी काफी कम है और इसका बैन का असर करीब 200 महिलाओं पर ही पड़ेगा।

धर्म हर देश में सिर्फ साम्प्रदायिक हिंसा और विवाद की वजह बन रहा है। कहीं पर यह आतंकवाद को बढ़ाने का काम करता है तो कहीं पर यह महिलाओं को तीन तलाक और सती जैसी कुरीतियों में ढकेल देता है।

मुस्लिम महिलाओं को पहनना और ओढ़ना इतना मुश्किल होता है कि मुस्लिम देशों में जहां उनको पूरा शरीर ढक कर रखने और बुरका व हिजाब पहनने पर मजबूर किया जाता है वहीं कुछ देश ऐसे भी हैं जो उन्हें बुर्का पहनने को लेकर न सिर्फ मना करते हैं बल्कि जुर्माना भी लगाने से पीछे नहीं रहते।

आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कौन सा देश है जो बुरका पहनने और जुर्माना लगाता है तो हम आपको बता देते हैं। दरअसल डेनमार्क की सरकार देश में महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगाने की तैयारी कर रही है।

सरकार सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं के ऐसे पहनावे पर रोक लगाएगी, जिससे चेहरा पूरी तरह ढक जाता हो। इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार का कहना है कि हम सार्वजनिक स्थानों पर बुर्का या हिजाब पहनने पर रोक लगाने का प्रस्ताव लाने पर विचार कर रहे हैं।

पब्लिक प्लेस पर ऐसा करने वालों को जुर्माना देना होगा।
प्रस्ताव के मुताबिक नियम का उल्लंघन करने पर 120 पाउंड यानी करीब 9,545 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। यदि एक बार से अधिक ऐसा करते कोई पाया जाता है तो उस पर यह फाइन 1 लाख रुपये तक हो सकता है।

डेनमार्क के जस्टिस मिनिस्टर सोरेन पापे पाउसेन ने कहा, ‘सार्वजनिक स्थान पर लोगों से मुलाकात करते हुए चेहरा ढंक कर रखना डेनिश समाज के मूल्यों के विपरीत है।’

उन्होंने कहा, ‘इस बैन के जरिए यह साबित करना चाहते हैं कि हम ऐसा समाज हैं, जो एक-दूसरे भरोसा करता है और मुलाकात के वक्त फेस-टु-फेस बात करता है।’

सरकार के इस प्रस्ताव को सत्ताधारी गठबंधन में शामिल तीनों दलों का समर्थन हासिल है। हालांकि डेनमार्क में मुस्लिम आबादी काफी कम है और इसका बैन का असर करीब 200 महिलाओं पर ही पड़ेगा।

जाहिर है महिलाओं के लिये हर ओर से मुश्किल है क्योंकि अगर वे बुर्का नहीं पहनती तो कट्टरपंथी उन्हें परेशान करते हैं और अगर पहनती हैं तो उन पर जुर्माना लग जाता है। वे करें भी तो क्या करें।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓