Print Friendly, PDF & Email

दिल्ली की शानदार पहल का स्वागत कीजिये, सरकार ने न्ते किया है दिल्ली की सड़कों पर कई लोग सिर्फ इसलिए जान गँवा देते हैं क्योंकि उन्हें पास के प्राइवेट अस्पताल की जगह सरकारी अस्पतालों में इलाज के लिए जाना पड़ता है, ऐसे में अब दिल्ली की सड़कों पर ऐक्सिडेंट के शिकार लोगों का इलाज अब प्राइवेट अस्पतालों में हो सकेगा और इलाज का खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी। ऐक्सिडेंट के अलावा, आग और ऐसिड अटैक पीड़ितों को भी यह सुविधा मिलेगी।

दिल्ली सरकार की कैबिनेट मीटिंग में हुए इस फैसले के बाद हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ने बताया कि ऐक्सिडेंट विक्टिम स्कीम के तहत ऐक्सिडेंट के शिकार लोगों को सबसे नजदीकी अस्पताल ले जाया जाएगा। अगर ऐक्सिडेंट स्पॉट के सबसे नजदीकी अस्पताल प्राइवेट है तो इलाज वहीं होगा। इसके लिए 340 प्राइवेट अस्पतालों से समझौता किया गया है। इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। स्कीम को अप्रूवल के लिए उपराज्यपाल के पास भेजा जाएगा। हरी झंडी मिलने के बाद इसे लागू कर दिया जाएगा।

जैन ने बताया कि ऐक्सिडेंट होने पर ऑटो या टैक्सीवाले पास में प्राइवेट अस्पताल होते हुए भी मरीज को सरकारी अस्पताल लेकर जाते हैं जिसमें समय लग जाता है। अब इस स्कीम के बाद घायलों को गोल्डन आवर में इलाज मिल सकेगा जिससे बचने की संभावना बढ़ जाएगी। स्कीम लागू करने के लिए ऑटो और टैक्सीवालों को ही इसका ब्रैंड ऐम्बैसडर बनाया जाएगा। सरकार उनके लिए एक ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाएगी जिससे वे इस स्कीम को समझकर लोगों की मदद कर सकें।

हेल्थ मिनिस्टर ने बताया कि ऐक्सिडेंट विक्टिम स्कीम के साथ ही गुड समैरिटन स्कीम को भी लॉन्च कर दिया जाएगा। इसमें घायल को अस्पताल पहुंचाने वाले शख्स को 2000 रुपये का इनाम दिया जाएगा। गुड समैरिटन स्कीम को उपराज्यपाल की अनुमति पहले ही मिल चुकी है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓

यह भी पढ़ें :  लड़कियों को 'किस' कर भागने वाले क्रेजी सुमित के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग