Print Friendly, PDF & Email

अगर आप भी आने स्मार्टफोन को खतरनाक ऐप्स का शिकार बना रहे हैं तो सावधान हो जाइए। क्योंकि देश में मोबाइल ऐप्पस का बढ़ता इस्तेमाल अब लोगों की सेहत के साथ -2 देश की सुरक्षा के लिए भी एक खतरा बन गया है।

एडवाइजरी में करीब 40 से ज्यादा ऐप्स हैं जो मन की गई हैं इस्तेमाल करने से। दावा किया गया है कि विदेशी खुफिया एजेंसियां, विशेष रूप से चीन और पाकिस्तान की एजेंसियां, मोबाइल ऐप से डाटा चुराने का काम कर रही हैं. यह कंपनियां मोबाइल ऐप को ब्रेक करके डाटा चोरी कर रही हैं ।

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले गूगल ने अपने प्ले स्टोर पर UC ब्राउजर को अस्थाई रूप से बैन कर दिया था ।

गूगल ने ये कार्रवाई UC ब्राउजर के डाटा सुरक्षा नियम के उल्लघंन की वजह से की थी , लेकिन अभी हाल ही में इसे फिर से गूगल प्ले स्टोर में जोड़ दिया गया है ।

40 मोबाइल ऐप्पस के बारे में बताते हैं जिन्हें सरकार ने तुरंत ही अनइंस्टॉल करने को कहा है.।

वीबो, UC ब्राउजर, UC न्यूज़, वीचैट, ट्रूकॉलर, शेयरइट, न्यूज़डॉग, 360 सिक्योरिटी , यूकैम मेकअप, ब्यूटी प्लस , वीवा, बैडू ट्रांसलेट, बैडू ऐप, सेल्फी सिटी , क्यू-क्यू प्लेयर,क्यू-क्यू म्यूजिक, क्यू-क्यू मेल , फोटो वंडर , क्यू-क्यू इंटरनेशनल , आईएनसी, पैरलर स्पेस ,परफेक्ट कॉर्प, आईएम स्टोर, मेल मास्टर , वंडर कैमरा , ड्यू क्लीनर , ड्यू प्राईवेसी।

इसके अलावा , ड्यू बैटरी सेवर , कैचक्लीनर, एमआई कम्युनिटी, चीता मास्टर क्लीनर, ड्यू रिकॉर्डर ,ईएस फाइल एक्सप्लोरर, क्यू-क्यू न्यूज़फीड आदि शामिल है ।

अगली बार जब ऐप डाउनलोड करें तो देख लें कि कहीं ये तो नहीं हैं।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓