Print Friendly, PDF & Email



आज का दिन कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए भारत का गोल्डन डे कहा जाये तो गलत नहीं होगा। गौरतलब है कि खेल के10वें दिन भारतीय खिलाड़ियों ने सुनहरा प्रदर्शन करते हुए भारत की झोली में अब तक 7 गोल्ड सहित कुल 13 मेडल डाल दिए हैं।

आपको बता दें भारत ने तीन ब्रॉन्ज और तीन सिल्वर मेडल जीते हैं। बॉक्सिंग में एमसी मैरी कॉम, गौरव सोलंकी, शूटिंग में संजीव राजपूत और भाला फेंक में नीरज चोपड़ा ने गोल्ड मेडल जीते।

जैसा कि आपने देखा होगा कि 45-48kg बॉक्सिंग में मैरी कॉम ने नॉर्दर्न आयरलैंड की क्रिस्टीना ओहारा को हराकर भारत को गोल्ड मेडल दिलाया। मैरी पहली बार कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा ले रही थीं, जबकि 52kg बॉक्सिंग में गौरव ने नॉर्दर्न आयरलैंड के ब्रेंडन इर्विन को 4-1 से हराया। शूटर संजीव राजपूत ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशंस में जीता मेडल जीता।

इतिहास भी रचा गया है. मसलन नीरज चोपड़ा ने कॉमनवेल्थ गेम्स की भालाफेंक स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतने वाले पहले भारतीय बन गए। उन्होंने यहां फाइनल में सत्र का सर्वश्रेष्ठ 86.47 मीटर का थ्रो फेंका।
वहीँ जूनियर विश्व चैंपियन 20 बरस के नीरज ने शुक्रवार को पहले ही थ्रो में क्वॉलिफाइंग आंकड़े को छूकर फाइनल में जगह बनाई थी। पिछले महीने पटियाला में फेडरेशन कप राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में 85.94 मीटर का थ्रो फेंककर उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था।

ओलिंपिक और वर्ल्ड सिल्वर मेडलिस्ट कीनिया के जूलियस येगो फाइनल के लिए क्वॉलिफाइ नहीं कर सके थे। वहीं 2012 ओलिंपिक चैंपियन और रियो खेलों के ब्रॉन्ज मेडल विजेता केशोर्न वॉलकॉट ने इन खेलों में भाग नहीं लिया।

यह भी पढ़ें :  आंध्र क्रिकेट संघ लोढा समिति के सुधार को तुरंत लागू करेगा : गंगराजू

पांच बार की विश्व चैम्पियन और ओलिंपिक ब्रॉन्ज मेडल विजेता एमसी मैरी कॉम (48 किलो) कॉमनवेल्थ गेम्स में महिला मुक्केबाजी में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय हो गईं जबकि गौरव सोलंकी (52 किलो) ने भी पीला तमगा अपने नाम किया। अमित पंघाल (49 किलो) और मनीष कौशिक (60 किलो) को रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

पहली और संभवत: आखिरी बार राष्ट्रमंडल खेलों में भाग ले रही 35 बरस की मैरी कॉम ने महिलाओं के 48 किलो फाइनल में उत्तरी आयरलैंड की क्रिस्टीना ओहारा को 5-0 से हराया। ओहारा के पास मैरी कॉम के दमदार पंच और फिटनेस का जवाब नहीं था। मैरी कॉम ने मुकाबले को लगभग एकतरफा बना दिया।

पुरुष वर्ग में सोलंकी ने उत्तरी आयरलैंड के ब्रेंडन इरविन को 4-1 से हराया। वह तीसरा दौर हार गए थे लेकिन पहले दो दौर में प्रदर्शन इतना अच्छा रहा कि अपने पदार्पण खेलों में ही उन्होंने स्वर्ण जीत लिया।

अमित और मनीष दोनों बंटे हुए फैसले पर हार गए। अमित को इंग्लैंड के गालाल याफाइ ने हराया। वहीं मनीष को ऑस्ट्रेलिया के हैरी गारसाइड ने 3- 2 से मात दी।

इधर संजीव राजपूत ने बेलमोंट शूटिंग सेंटर पर पुरुषों की 50 मीटर राइफल-3 पोजीशन स्पर्धा में गोल्ड मेडल हासिल किया। इसी स्पर्धा में भारत के चैन सिंह को पांचवां स्थान मिला। संजीव ने कुल 454.5 का स्कोर करते हुए गेम रेकॉर्ड के साथ गोल्ड पर कब्जा जमाया।

सिल्वर मेडल कनाडा के ग्रेजगोर्ज स्याच के नाम रहा जिन्होंने 448.4 का स्कोर किया। इंग्लैंड के डीन बेल 441.2 का स्कोर करते हुए ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम करने में सफल रहे। संजीव ने क्वॉलिफिकेशन में 1180 के गेम रेकॉर्ड के साथ पहला स्थान हासिल करते हुए फाइनल में जगह बनाई तो वहीं चैन 1166 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान पर रहे। कुल मिलाकर खेलप्रेमियों के लिए यह दिन उत्साह से भरा है और सोने यानी गोल्ड का दिन है।

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓