(फाइल फोटो)
Print Friendly, PDF & Email

नई दिल्ली : मेरिकी की खुफिया एजेंसी सीआईए ने अपने फैक्टबुक में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल को ‘धार्मिक आतंकी गुट’ बताया है। इन दोनों समूहों को सीआईए ने अपने दस्तावेज में ‘राजनीतिक दबाव समूह’ (पोलिटिकल प्रेशर ग्रुप) वर्ग में रखा है।

फैक्टबुक की सूची में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और बजरंग दल के सामने “मिलिटेंट रिलीजियस आर्गेनाइजेशन” अर्थात आतंकी धार्मिक संगठन लिखा गया है।

विहिप और बजरंग दल के अलावा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को सीआईए के फैक्टबुक में एक ‘राष्ट्रवादी संगठन’ के तौर पर जगह दी गई है जबकि कश्मीर के हुर्रियत कॉन्फ्रेंस को ‘अलगाववादी समूह’ बताया है और जमीयत उलेमा-ए-हिंद को ‘धार्मिक संगठन’ कहा गया है।

(फाइल फोटो)

क्या है सीआईए का ‘द वर्ल्ड फैक्टबुक’ ?
‘द वर्ल्ड फैक्टबुक’ अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए का एक वार्षिक प्रकाशन है, जिसमें दुनिया के 267 देशों के बारे में जानकारी होती है। इस फैक्सबुक में उन देशों के इतिहास, भूगोल, सरकार, अर्थव्यवस्था, ऊर्जा, संचार, परिवहन, सेना, अंतरराष्ट्रीय मुद्दों और राजनीतिक दलों के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी जाती है।
यह यूएस सरकार के अधिकारियों द्वारा उपयोग के लिए सीआईए द्वारा तैयार किया गया है, और इसकी शैली, प्रारूप, कवरेज और सामग्री मुख्य रूप से उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डिज़ाइन की गई है। हालांकि, इसे अक्सर छात्र पत्रों, वेबसाइटों और गैर-सरकारी प्रकाशनों के संसाधन के रूप में भी उपयोग किया जाता है। अमेरिकी सरकार के काम के रूप में, यह सार्वजनिक डोमेन में है।

इस पुस्तक को अनेक ई-कॉमर्स वेबसाइट से ऑनलाइन आर्डर करके पढ़ा जा सकता है।

हम फैक्टबुक के खिलाफ कार्रवाई करेंगें : मनोज वर्मा 

सीआईए द्वारा ‘धार्मिक आतंकी गुट’ बताये जाने पर बजरंग दल के राष्ट्रीय संयोजक मनोज वर्मा ने कहा है कि “कुछ दिन पहले ये हमारी जानकारी में आया। हम विशेषज्ञों से संपर्क कर रहे हैं और फैक्टबुक के खिलाफ कार्रवाई के लिए कानूनी सलाह ले रहे हैं।“

 

 


यह बजरंग दल को बदनाम करने की झूठी साजिश है : विनय कटियार

इस ख़बर पर प्रतिक्रया देते हुए भाजपा नेता विनय कटियार ने कहा कि “बजरंग दल का एक सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक संगठन है। यह बजरंग दल को बदनाम करने की झूठी साजिश है। बजरंग दल का आतंकवाद से कोई लेना देना नहीं है। यह संगठन युवाओं के बीच में काम करता है। धार्मिक क्षेत्र को अपना सहयोग देता है और समाज के रचनात्मक कार्यों में अपनी भूमिका निभाता है। हम गोरक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। वनवासियों के बीच में बजरंग दल के कार्यकर्ता उनका जीवन स्तर बेहतर बनाने के लिए कार्य कर रहे हैं। सीआईए को इसमें भी आतंकवाद नजर आने लगा। ये लोग झूठी, राजनीति से प्रेरित रिपोर्ट कर रहे हैं। हम सीआईए की इस तरह की गतिविधियों पर कड़ा प्रतिवाद करने की तैयारी कर रहे हैं।“


अमेरिका को क्या पता भारत के बारे में  : डा. राम विलास वेदांती

पूर्व सांसद, अयोध्या राम मंदिर मामले से और विहिप से जुड़े संत डा. राम विलास वेदांती का कहना है कि “अमेरिका और सीआईए को भारतीय रूप, रंग, ढांचे के बारे में क्या पता। उन्हें क्या पता कि असदुद्दीन ओवैसी, राहुल गांधी, आजम खां, पी चिदंबरम जैसे लोग अपने घर पर आतंकियों को बुलाकर खाना खिलाते हैं। डा. वेदांती ने कहा कि देश के लोग पाकिस्तान जिंदाबाद और भारत मुर्दाबाद के नारे लगाते हैं लेकिन इनके खिलाफ तो सीआईए की रिपोर्ट हमने नहीं देखी।“


देशभर में प्रतिबंधित हो विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल : स्वामी अग्निवेश

सामाजिक कार्यकर्ता और विश्व आर्य समाज परिषद के अध्यक्ष स्वामी अग्निवेश का इस संबंध में कहना है कि “सरकार को विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) और बजरंग दल की गतिविधियों पर देशभर में पूरी तरह से प्रतिबंध लगा देना चाहिए। इन दोनों संगठनों पर प्रतिबंध लगाने के पर्याप्त सबूत हैं। बजरंग दल देश में आतंकवादी संगठन की तरह उभर रहा है।”

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया ⇓