Monday, December 17, 2018

अनोखी तरकीब (बाल-कहानी)

  ⇒ पराग ज्ञानदेव चौधरी बहुत पुरानी बात है। एक अमीर व्यापारी के यहाँ चोरी हो गयी। बहुत तलाश करने के बावजूद सामान न मिला और न...

आम आदमी (लघु कथा)- शंकर पुणतांबेकर 

नाव चली जा रही थी। मँझदार में नाविक ने कहा, 'नाव में बोझ ज्यादा है, कोई एक आदमी कम हो जाए तो अच्छा, नहीं तो...

वसूली करना अपुन से सीखो (व्यंग्य)- अर्चना चतुर्वेदी

हमारे देशवासियों की आदतें और सोच सारी दुनिया से निराली है। जैसे पूरे पर्वत पर संजीवनी बूटी चमकती थी ऐसे हम पूरी दुनिया में...

आर्ट का पुल (कहानी) -फ़हीम आज़मी

पहले तो सारा इलाका एक ही था और उसका नाम भी एक ही था। इलाका बहुत उपजाऊ था। बहुत से बाग, खेत, जंगली पौधे,...

‘ऐट क्रिसमस टाइम्स (क्रिसमस के समय में)’ : एंटन चेखव

कथाकार : एंटन चेखव (मशहूर रूसी लेखक) अनुवाद : प्रेमचंद गांधी ‘मैं क्‍या लिखूं’, येगोर ने कहा और उसने अपनी कलम स्‍याही में डुबो दी। वसीलिसा अपनी...

यह धरती सबकी है-(बाल कहानी)- सत्यनारायण भटनागर

शेरू, स्वीटी और कालू अस्पताल क्षेत्र में स्थाई रूप से निवास करते हैं। शेरू खूंखार दिखता है। जब गुस्सा आता है, तब दहाड़ता है...

बैंड बनाम बैंडेज (व्यंग्य)- पंकज प्रसून

पक्का ने पैंतालीस साल की उम्र में मजबूरीवश डॉक्टरी सीखी। उनकी प्रजनन क्षमता के चलते ऐसा हुआ। दस बच्चे और दो बीवियों सहित बारह...

अंधा बांटे रेवड़ी (व्यंग्य)- अरविंद कुमार खेड़े

'अंधा बाँटे रेवड़ी, अपने अपने को...' यह मुहावरा है लोकोक्ति? यह गुणी ज्ञानी-जनों का विषय है। मेरी समस्या दूसरी है। क्यों कि मैं गुणी-ज्ञानी...

द रॉयल घोस्ट (कहानी)- तरुण भटनागर

'...चल-चल आज तो दिखा ही दे, क्या है उस ट्रंक में। मान जा यार।' पिता बिट्टो बुआ से निवेदन कर रहे थे। बिट्टो बुआ को...

लूट इंडिया लूट (व्यंग्य)- शशिकांत सिंह ‘शशि’

दोस्तों! 'लूट इंडिया लूट', रियलिटी शो के इतिहास में मील का पत्थर साबित होने जा रहा है। आज तक हम टीवी पर केवल मनोरंजन...