Sunday, November 18, 2018
Home आलेख / विचार

आलेख / विचार

    डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : हिंद वॉच मीडिया पोर्टल के इस हिस्से में आप जिन आलेखों और रचनाओं को पढ़ते हैं, उनमें व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इन आलेखों और रचनाओं में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति हिंद वॉच मीडिया को उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है। इन आलेखों और रचनाओं में सभी सूचनाएं बगैर संपादन किए ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार हिंद वॉच मीडिया के नहीं हैं, तथा हिंद वॉच मीडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

    परिवारों को शिक्षित करती बेटियां

    सासनी। यदि बेटी शिक्षित होगी तो देश समृद्धशाली होगा। क्यों कि एक शिक्षित बेटी दो परिवारों को शिक्षित करते हुए उन परिवारों को संस्कार...

    कौन बनाता है भारतीय मुसलामानों को संदिग्ध ?

    "जेंटलमैन, ब्लड ईज थिकर दैन वाटर " ⇒ मोहम्मद अली जिन्ना नेहरु और जिन्ना ने तो अपने स्वार्थ के कारण मुल्क को दो टुकड़ों में...

    न्यूजरूम के तनाव से हो रही खबरनवीसों की मौतों से मालिक...

    मालिक की पूंजी का पेट मुनाफे से ही भरता है, इसलिए अखबार को हल हाल में छपना होता है। चाहे आतंकवादियों की गोली हो...

    एक और मासूम डाक्टरों की लापरवाही से मौत का शिकार हुआ

    हाथरस के थाना हाथरस गेट क्षेत्र के गाँव दादनपुर निवासी शशि कुमार की एक वर्ष की बेटी सुबह घर के आँगन में खेल रही...

    सरकार बुधनी की मौत पर लीपापोती न करती तो बच सकती...

    प्रधानमंत्री जी अपने सपनों के जिस भारत के निर्माण की दिशा में अग्रसर हैं, उसे उन्होंने ‘न्यू इंडिया’ का नाम दिया है, यानी एक...

    पोर्न स्टार के चक्कर से कब बाहर निकलेंगे डोनाल्ड ट्रंप

    जब से डोनाल्ड ने अमेरिका की कमान संभाली है तब से उनका नाम विकास की बातों के बजाये सेक्स स्कैंडल, नस्लभेदी टिप्पणी, पैसों और...

    घृणा पर आधारित होती है भारतीय समाज में परिवार की शुरुआत

    एक अफ़गान मित्र जो कि वरिष्ठ एन्थ्रोपोलोजिस्ट (मानव-विज्ञानी/समाजशास्त्री) हैं और राजनीतिक शरणार्थी की तरह यूरोप में रह रही हैं। शाम होते ही वे कसरत...

    भीमा कोरेगांव मामले में मीड़िया और प्रशासन का भगवा चेहरा हुआ...

    भीमा कोरेगांव में 1 जनवरी को हुई हिंसा ने फिर से दुनिया को आजाद भारत की मीड़िया और राज्य व केन्द्र सरकार का रंग...

    15 रुपये के लिए हत्या और 15 अरब की 1 प्रॉपर्टी,...

    जिस देश में भुखमरी के हालात हों, किसान कर्ज के जाल में फंसकर आत्महत्या करने पर मजबूर हों और 10- 15 रुपये के लिए...

    स्मॉग से पहले मानसिक प्रदूषण दूर करें

    कहते हैं कि वर्तमान की हर त्रासदी और आपदा के बीज गुज़रे ज़माने के गर्भ में छिपे होते है और इनका प्रभाव भविष्य में...