Monday, September 24, 2018
Home आलेख / विचार

आलेख / विचार

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : हिंद वॉच मीडिया पोर्टल के इस हिस्से में आप जिन आलेखों और रचनाओं को पढ़ते हैं, उनमें व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इन आलेखों और रचनाओं में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति हिंद वॉच मीडिया को उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है। इन आलेखों और रचनाओं में सभी सूचनाएं बगैर संपादन किए ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार हिंद वॉच मीडिया के नहीं हैं, तथा हिंद वॉच मीडिया उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

मुंडा दिसुम पर कब्जा करने का सरकारी षडयंत्र

झारखंड के मुंडा दिसुम में पांच महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप, तीन पुलिसकर्मियों का अगवा किया जाना, एक निर्दोंष आदिवासी की पुलिसिया कार्रवाई में...

एक के बाद एक ढ़हते कम्युनिस्ट दुर्ग

साम्यवाद का काबा माना जाने वाला सोवियत संघ जब भरभराकर ढ़ह गया, तब यह कहा गया कि विश्व की पूंजीवादी शक्तियों ने पूरी ताकत...

रणनीतिक रूदाली है मोदी सरकार का पाकिस्तान पर क्रोध

संसद में भारत की विदेशमंत्री सुषमा स्वराज का भावनात्मक भाषण, जिसे देश में भक्तगण मंत्री का मार्मिक क्रंदन बता रहे हैं, वह उकसावे और...

दिल्ली के दमघोंटू हालात से निपटने की अगंभीर सरकारी कोशिशें

सात नवंबर की रात से दिल्ली व उसके आसपास घना स्मॉग क्या छाया, तमाम लोगों ने सारा दोष पंजाब-हरियाण के किसानों के पराली जलाने...

देश को आदिवासियों से लोकतांत्रिक मूल्य सीखना चाहिए

आदिवासी दिवस पर विशेष 9 अगस्त को प्रत्येक वर्ष आदिवासी दिवस आते ही मन में यह प्रश्न उठता है कि हम आदिवासियों को अपने देश...

सरकार बुधनी की मौत पर लीपापोती न करती तो बच सकती...

प्रधानमंत्री जी अपने सपनों के जिस भारत के निर्माण की दिशा में अग्रसर हैं, उसे उन्होंने ‘न्यू इंडिया’ का नाम दिया है, यानी एक...

जुनैद, अखलाक और पहलू खान के हत्यारों को कौन संरक्षण दे...

जुनैद, अखलाक, पहलू खान और बिलकिस बानो का कसूर केवल उनकी आस्था और उनका अल्पसंख्यक होना था। उनके संप्रदाय की पहचान के कारण उनकी...

सेना प्रमुख के नाम एक खुला पत्र : महेश राठी

वरिष्ठ पत्रकार महेश राठी ने अपने ब्लॉग में 30 मई 2017 को थल सेना प्रमुख विपिन रावत के नाम एक खुला पत्र लिखा |...

कौन बनाता है भारतीय मुसलामानों को संदिग्ध ?

"जेंटलमैन, ब्लड ईज थिकर दैन वाटर " ⇒ मोहम्मद अली जिन्ना नेहरु और जिन्ना ने तो अपने स्वार्थ के कारण मुल्क को दो टुकड़ों में...

पुलिस, परिवहन और निगम का भ्रष्टाचार भी दिल्ली में बढ़ा रहा...

दिल्ली की आबोहवा में सांस लेना मुसीबत को दावत देना बनता जा रहा है। ग्रीन ट्रिब्यूनल से लेकर हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक लगातार...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com

हिंद वॉच मीडिया के बारे में दोस्तों को बताएं

  • Follow by Email
  • Facebook
    Facebook
  • Google+
    http://hindwatch.in/category/%E0%A4%86%E0%A4%B2%E0%A5%87%E0%A4%96-%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0">
  • Twitter
  • YouTube
  • LinkedIn